'सरकार संस्‍थानों को नियमानुसार नहीं चलाना चाहती तो खत्‍म कर दे' : उपभोक्‍ता फोरम में खाली पदों को लेकर SC खफा

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये कोई अच्छी स्थिति नहीं है कि खाली पदों पर भर्ती को लेकर भी कोर्ट को ही दखल देना पड़े. अगर सरकार ट्राइब्यूनल्स और उपभोक्ता शिकायत निवारण आयोग जैसे अहम संस्थानों को नियमानुसार नहीं चलाना चाहती तो उन्हें खत्म ही कर दे

'सरकार संस्‍थानों को नियमानुसार नहीं चलाना चाहती तो खत्‍म कर दे' : उपभोक्‍ता फोरम में खाली पदों को लेकर SC खफा

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ये कोई अच्छी स्थिति नहीं है कि खाली पदों पर भर्ती को लेकर भी कोर्ट को दखल देना पड़े

नई दिल्‍ली :

उपभोक्ता फोरम में खाली पदों पर भर्तियों को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने केंद्र सरकार  से नाराज़गी जताई है. SC ने इस मामले में सरकार की उदासीनता और मनमानी से खिन्न  होकर कड़ी टिप्पणी की है. कोर्ट ने कहा  कि ये कोई अच्छी स्थिति नहीं है कि खाली पदों पर भर्ती को लेकर भी कोर्ट को ही दखल देना पड़े. अगर सरकार ट्राइब्यूनल्स और उपभोक्ता शिकायत निवारण आयोग (consumer forums) जैसे अहम संस्थानों को नियमानुसार नहीं चलाना चाहती तो उन्हें खत्म ही कर देफिर तो सरकार को ट्राइब्यूनल्स एक्ट ही खत्म कर देना चाहिए. 

दरअसल, उपभोक्ता शिकायत निवारण आयोग और समितियों में खाली पड़े पदों की लगातार बढ़ती संख्या पर सुओ मोटो यानी स्वत: संज्ञान लेते हुए जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस एमएम सुंदरेश की पीठ ने  सुनवाई के दौरान असंतोष जताते हुए कहा कि ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि सुप्रीम कोर्ट को सरकार से इस खाली पदों पर समय से भर्तियों और अन्य व्यवस्थाओं की बाबत बार बार कहना पड़ रहा है. हमारी ऊर्जा तो अपने न्यायक्षेत्र को इन ट्राइब्यूनल में खाली जगहों का पता लगाने और भर्ती के इंतजाम करने में ही खप जाती है. कोर्ट तक लोग खाली पदों को भरने के आदेश देने की अर्जी लेकर आते हैं, ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है. राज्य और जिला स्तरीय उपभोक्ता शिकायत निवारण आयोग और समितियों में बड़ी संख्या में खाली पड़े पदों पर भर्ती न होने से लोग परेशान हैं. वर्षों से लंबित अर्जियां यूं ही पड़ी हैं, लेकिन सरकारें निश्चिंत हैं. 

जस्टिस कौल और जस्टिस सुन्दरेश की पीठ ने सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारों को आठ हफ्ते में हरेक जिला उपभोक्ता शिकायत निवारण आयोगों और समितियों में खाली पद भरने का आदेश दो महीने पहले 11 अगस्त को दिया था.  शुक्रवार को जब सुनवाई शुरू हुई तो गोपाल शंकर नारायण ने कोर्ट का ध्यान ट्राइब्यूनल्स एक्ट में प्रस्तावित संशोधन पर खींचते हुए सरकार को कठघरे में खड़ा कर दिया.शंकरनारायण ने कहा कि मद्रास बार एसोसिएशन मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का खुले आम उल्लंघन करते हुए केंद्र सरकार ये सब कर रही है.


सरकार का पक्ष रखते हुए एएसजी अमन लेखी ने कहा कि दरअसल देखा जाए तो संशोधन विधेयक सुप्रीम कोर्ट के मद्रास बार एसोसिएशन वाले मामले में दिए गए फैसले का पूरक है लेकिन कोर्ट की टिप्पणियों से साफ हो गया कि लेखी की दलीलों का कोर्ट पर कोई असर नहीं पड़ा. पीठ ने कहा कि ऐसा लगता है कि हम अपने फैसले में कुछ और कह रहे हैं सरकार कुछ और ही कर रही है, कहा कुछ और जा रहा है. इस सबके बीच आम जनता परेशान हो रही है.हाल ही में बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर पीठ ने भी अपने फैसले में उपभोक्ता संरक्षण नियम 2020 के कुछ प्रावधानों को रद्द किया था जिनमें राज्य और जिला उपभोक्ता शिकायत निवारण आयोग में अध्यक्ष और सदस्यों की नियुक्तियों के प्रावधान में बदलाव किया गया है. हाईकोर्ट ने पाया कि नियमों के मुताबिक नियम 3(2) के मुताबिक  राज्य स्तरीय आयोग के अध्यक्ष और सदस्य पद पर नियुक्ति के लिए उम्मीदवार का कम से कम 20 साल का और नियम 4 (2) c के मुताबिक जिला स्तरीय आयोग के अध्यक्ष और सदस्य पद पर कम से कम 15 साल का अनुभव जरूरी है. इसके अलावा नियम 6(9) के मुताबिक उस चयन समिति को भी अक्षम और निष्क्रिय कर दिया गया है जो आयोग के कार्य और प्रक्रियाओं के साथ ही आयोग की जरूरतों के मुताबिक सिफारिश भी करती है. वैसे सुप्रीम कोर्ट में ट्राइब्यूनल्स के खाली पदों पर चीफ जस्टिस एनवी रमना की अगुआई वाली पीठ ने कई बार सरकार को निष्क्रियता और उदासीनता के लिए फटकार लगाई थी . गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल 14 जुलाई में केंद्र सरकार के ट्राइब्यूनल्स नियमों में संशोधन के लिए संसद में पेश वित्त विधेयक 2017 की धारा 184 रद्द कर दी थी.उस विधेयक में ट्रिब्यूनल सुधार के साथ एकरूपता और सेवा शर्तों का नियमन करने का अध्यादेश था, इसमें ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष और सदस्य का कार्यकाल चार साल तय कर दिया था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


- - ये भी पढ़ें - -
* "सेना की 39 महिला अफसरों की सुप्रीम कोर्ट में बड़ी जीत, मिलेगा स्थायी कमीशन
* "कवच कितना ही उत्तम हो, युद्ध चलने तक हथियार नहीं डाले जाते' : PM के संबोधन की 5 अहम बातें
* "किसानों के प्रदर्शन स्थल पर एक और शख्स की निहंग ने की पिटाई, मुर्गा न देने पर तोड़ दी टांग