'खाली कराया जाए सिंघु बॉर्डर' : हाथ-पैर काटकर युवक की बेरहमी से हत्या के बाद SC में याचिका

सुप्रीम कोर्ट में किसान आंदोलन को गैरकानूनी करार दे सड़कों से हटाने की याचिका दाखिल की गई है.

नई दिल्ली:

सिंघु बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन स्थल पर एक युवक की बेरहमी से हत्या का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार शाम को याचिका दाखिल करते हुए मांग की गई है कि है कि सिंघु बॉर्डर को किसानों से खाली कराया जाए. बता दें, केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले एक साल से किसान सिंघु बॉर्डर पर धरने पर बैठे हैं. शुक्रवार सुबह प्रदर्शन स्थल पर एक बैरिकेड्स से लटका हुआ शव मिला. हाथ-पैर काटने के बाद शव को लटकाया गया था. 

युवक की हत्या का शक 'निहंग' सिखों पर जा रहा था. युवक पर आरोप लगाया गया था कि उसने पवित्र ग्रंथ का अपमान किया गया था. युवक की मौत से पहले निहंगों एक गुट को उससे पूछताछ करते हुए एक वीडियो में देखा गया था. हालांकि, शुक्रवार शाम को एक निहंग सिख ने हत्या की बात कबूल करते हुए वारदात की जिम्मेदारी खुद के सिर पर ले ली. उसके बाद उसने खुद को पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया. 

सुप्रीम कोर्ट में किसान आंदोलन को गैरकानूनी करार दे सड़कों से हटाने की याचिका दाखिल की गई है. याचिका में कहा गया है कि अब एक दलित युवक की हत्या कर दी गई, इससे पहले एक महिला से भी रेप की घटना भी हुई है. इसके अलावा याचिका में 26 जनवरी को हुई ट्रैक्टर रैली के दौरान हिंसा का जिक्र किया गया है. 


वकील शशांक शेखर झा की ओर से दाखिल याचिका में कहा गया है कि अभिव्यक्ति की आजादी की आड़ में गैरकानूनी तरीके से आंदोलन चल रहा है. साथ ही सुप्रीम कोर्ट से लंबित याचिका पर जल्द सुनवाई की मांग की गई है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सिंघु बॉर्डर पर युवक की बेरहमी से हत्या, शव पुलिस बैरिकेड से लटकाया