'लाना तो था पाक से कश्मीर छीन के...' : शशि थरूर का मोदी सरकार पर तंज

चीन पर दिए सेना प्रमुख के बयान पर राहुल गांधी के ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए कांग्रेस के नेता शशि थरूर ने ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है कि सरहद के पार आ गए हैं चीन के लोग...

'लाना तो था पाक से कश्मीर छीन के...' :  शशि थरूर का मोदी सरकार पर तंज

सीमा पर चीन से विवाद के बीच शशि थरूर ने मोदी सरकार को घेरा

नई दिल्ली:

भारत और चीन (India-China Issue) के बीच सीमा पर गतिरोध जारी है. हाल ही में सेना प्रमुख नरवणे ने एक चैनल पर बयान दिया था कि हां ये चिंता का विषय है कि बड़े पैमाने पर जमावड़ा हुआ है और यह जारी है. उस तरह के जमावड़े को बनाए रखने के लिए, चीन की ओर बुनियादी ढांचे का इसी पैमाने का विकास भी हुआ है. तो, इसका मतलब है कि वे (पीएलए) वहां बने रहने के लिए हैं, हम इन सभी घटनाक्रम पर कड़ी नजर रखे हुए हैं, लेकिन अगर वे वहां बने रहने के लिए हैं, तो हम भी वहां बने रहने के लिए हैं. भारत की ओर से भी तैनाती और बुनियादी ढांचे का विकास पीएलए के समान है. इस बयान को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने ट्वीट किया था कि चीन वहां बने रहने के लिए है, कहां, क्या हमारी जमीन पर? इसी रीट्वीट करते हुए शशि थरूर (Shashi Tharoor ) ने लिखा है कि लाना तो था पाक से कश्मीर छीन के, सरहद के पार आ गए हैं लोग चीन के!  शशि यहां पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की बात कर रहे थे. बता दें कि पूर्वी लद्दाख में एलएसी से लगे कई क्षेत्रों में भारत और चीन की सेनाओं के बीच लगभग 17 महीनों से गतिरोध बना हुआ है.  वैसे दोनों पक्ष टकराव वाले बिंदुओं से पीछे हटे हैं. पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से लगे कई क्षेत्रों में भारत और चीन की सेनाओं के बीच लगभग 17 महीनों से गतिरोध बना हुआ है। वैसे दोनों पक्ष श्रृंखलाबद्ध वार्ता के बाद टकराव वाले कई बिंदुओं से पीछे हटे हैं.

यहीं पर सेना प्रमुख ने ये भी कहा था कि लेकिन निश्चित रूप से, हमें सैन्य जमावड़े और तैनाती पर कड़ी नजर रखनी होगी ताकि वे एक बार फिर कोई दुस्साहस ना करें. जनरल नरवणे ने एक सवाल के जवाब में कहा कि यह समझना मुश्किल है कि चीन ने ऐसे समय गतिरोध क्यों शुरू किया जब दुनिया कोविड-19 महामारी से जूझ रही थी और जब उसके सामने देश के पूर्वी समुद्र की ओर कुछ मुद्दे थे.  उन्होंने कहा, ‘‘जबकि यह सब चल रहा हो, एक और मोर्चे को खोलने की बात समझना मुश्किल है.''

सेना प्रमुख ने कहा था कि लेकिन जो भी हो, मुझे नहीं लगता कि वे भारतीय सशस्त्र बलों द्वारा की गई त्वरित प्रतिक्रिया के कारण उनमें से किसी में भी कुछ भी हासिल कर पाए. पूर्वी लद्दाख में समग्र स्थिति पर टिप्पणी करने के लिए कहे जाने पर जनरल नरवणे ने विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता के हालिया बयान का हवाला दिया और कहा कि उन्होंने स्पष्ट रूप से उल्लेख किया है कि उत्तरी सीमा पर जो कुछ भी हुआ है, वह चीन की ओर से व्यापक पैमाने पर सैन्य जमावड़े और विभिन्न प्रोटोकॉल का पालन न करने के कारण है. सेना प्रमुख ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में गतिरोध के बाद, भारतीय सेना ने महसूस किया कि उसे आईएसआर (खुफिया, निगरानी और टोही) के क्षेत्र में और अधिक करने की जरूरत है. उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए पिछले एक साल में हमारे आधुनिकीकरण की यही सबसे बड़ी ताकत रही है। इसी तरह, अन्य हथियार और उपकरण जो हमने सोचा था कि हमें भविष्य के लिए चाहिए, उन पर भी हमारा ध्यान गया है.''


पैंगोंग झील क्षेत्र में हिंसक झड़प के बाद पूर्वी लद्दाख में पिछले साल 5 मई को भारतीय और चीनी सेनाओं के बीच सीमा गतिरोध शुरू हुआ था. दोनों पक्षों ने धीरे-धीरे हजारों सैनिकों के साथ-साथ भारी हथियारों के साथ अपनी तैनाती बढ़ा दी. एक श्रृंखलाबद्ध सैन्य और राजनयिक वार्ता के परिणामस्वरूप, दोनों पक्षों ने अगस्त में गोगरा क्षेत्र से वापसी की प्रक्रिया पूरी की। फरवरी में, दोनों पक्षों ने एक समझौते के अनुरूप पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारे से सैनिकों और हथियारों की वापसी पूरी की. वर्तमान में संवेदनशील क्षेत्र में एलएसी से लगे क्षेत्र में दोनों ओर के लगभग 50,000 से 60,000 सैनिक तैनात हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(इनपुट्स भाषा से भी)



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)