बारिश के चलते चेन्नई व तमिलनाडु के 6 अन्य जिलों में कल बंद रहेंगे स्कूल

तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश में हाल ही के कुछ दिनों में भारी बारिश के कारण तबाही देखने को मिली है. इसको लेकर सरकार ने सतर्कता बरतते हुए संस्थान बंद करने का निर्णय़ लिया है. आपदा मोचन बल की टीमों और प्रशासनिक एजेंसियों को सतर्क रहने को कहा गया है. 

बारिश के चलते चेन्नई व तमिलनाडु के 6 अन्य जिलों में कल बंद रहेंगे स्कूल

चेन्नई:

Tamil Nadu Heavy Rainfall : तमिलनाडु में सोमवार को भारी बारिश की आशंका के चलते राजधानी चेन्नई और छह अन्य जिलों में स्कूल-कॉलेज बंद करने का ऐलान किया गया है. तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश में हाल ही के कुछ दिनों में भारी बारिश के कारण तबाही देखने को मिली है. इसको लेकर सरकार ने सतर्कता बरतते हुए संस्थान बंद करने का निर्णय़ लिया है. आपदा मोचन बल की टीमों और प्रशासनिक एजेंसियों को सतर्क रहने को कहा गया है. चेन्नई (heavy rains) के तिरुनेलवेली जिले में भी स्कूल-कॉलेज बंद करने की घोषणा की गई है.

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने तिरुनेलवेली, कन्याकुमारी जिलों में बेहद भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है. जबकि थोटूकुडी और रामनाथपुरम जिलों में भी भारी बारिस की आशंका है. मौसम विभाग ने दो दिन पहले तमिलनाडु के पांच जिलों के लिए भारी बारिश की चेतावनी वाला रेड अलर्ट जारी किया था. तब बाढ़ औऱ जलभराव के बीच 22 जिलों में स्कूल-कॉलेज बंद (tamilnadu Schools colleges closed) कर दिए गए थे.  


तमिलनाडु में लगातार भारी बारिश के कारण फसलों, इमारतों और सड़कों को भारी नुकसान पहुंचा है. इससे कई इलाकों का संपर्क मुख्य मार्गों से टूट गया है. शहरी इलाकों में भी बाढ़ जैसे हालात हैं. राहत एवं बचाव कार्य में जुटी एजेंसियों को जलभराव, फसलों के नुकसान, पेड़ उखड़ने, मवेशियों को नुकसान जैसी कई तरह की शिकायतें लगातार मिल रही हैं. भारी बारिश से कई नदियों और झीलों का पानी भी खतरे के निशान (water level) से ऊपर बह रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


 50 हजार से ज्यादा हेक्टेयर की फसलें भारी बारिश में बर्बाद हो चुकी हैं. इस मानसून सत्र में तमिलनाडु में सामान्य से 68 फीसदी ज्यादा बारिश हो चुकी है. 2300 से ज्यादा घर बरसात में ध्वस्त हो चुके हैं. अक्टूबर के बाद से ही लगातार तमिलनाडु भारी बरसात के कई दौर झेल चुका है. तमिलनाडु के दो तिहाई से ज्यादा इलाके में बाढ़ जैसे हालात हैं. नवंबर में भी बारिश ने कहर बरपाया है.