यह ख़बर 20 नवंबर, 2014 को प्रकाशित हुई थी

रामपाल ने कहा, आश्रम में समर्थकों की मौत पर अफसोस, हिंसा में मेरा हाथ नहीं

रामपाल ने कहा, आश्रम में समर्थकों की मौत पर अफसोस, हिंसा में मेरा हाथ नहीं

रामपाल को पंचकुला के अस्पताल से चंडीगढ़ ले जाती पुलिस

पंचकुला / चंडीगढ़:

पुलिस की गिरफ्त में आए रामपाल ने पंचकुला के अस्पताल से थाने ले जाते समय खुद को बेकसूर बताया और कहा कि आश्रम में हुए बवाल और हिंसा के पीछे उसका हाथ नहीं है। उसने कहा कि आश्रम में हुई मौतों के लिए उसे अफसोस है। रामपाल ने कहा, मेरे खिलाफ सारे आरोप झूठे हैं।

रामपाल को हरियाणा पुलिस आज 2 बजे हाईकोर्ट के सामने पेश करेगी। रामपाल को अभी थाने में सलाखों के पीछे रखा गया है। इसी पेशी के लिए पुलिस कई बार हाइकोर्ट से फटकार खा चुकी है।

रामपाल को गिरफ्तार किए जाने के बाद मेडिकल जांच के लिए पंचकुला के अस्पताल ले जाया गया, जहां स्वास्थ्य मापदंडों पर उसकी स्थिति बिल्कुल ठीक पाई गई। अवमानना के एक मामले में हाईकोर्ट के समक्ष पेश होने से इनकार करने वाला 63-वर्षीय रामपाल दावा कर रहा था कि वह बीमार है।

रामपाल को बुधवार रात हिसार के बरवाला स्थित उसके आश्रम से गिरफ्तार किया गया। रामपाल को बाद में एम्बुलेंस से मध्यरात्रि के बाद 220 किलोमीटर दूरी तय करके हरियाणा में पंचकुला सरकारी अस्पताल ले जाया गया। यहां आने के तत्काल बाद डॉक्टरों ने सेक्टर-6 में सरकारी स्वास्थ्य संस्थान में उसकी मेडिकल जांच की। सदर अस्पताल के डॉ राजेश ने संवाददाताओं से कहा कि रामपाल का स्वास्थ्य सभी मापदंडों पर ठीक है।

(इनपुट भाषा से भी)


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com