पंजाब चुनाव : AAP के CM कैंडिडेट भगवंत मान पर प्रचार के दौरान कोरोना नियम के उल्लंघन का आरोप, EC ने भेजा नोटिस

Punjab Election 2022 : पंजाब के संगरूर में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार भगवंत मान (Bhagwant Mann) पर प्रचार के दौरान कोरोना नियम के उल्लंघन का आरोप लगा है, जिसके चलते EC ने उन्हें नोटिस भेजा है. 

नई दिल्ली:

विधानसभा चुनावों में कोरोनावायरस महामारी के चलते चुनाव आयोग ने रैलियों और जनसभा को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं. लेकिन एक के बाद एक ऐसी खबरें आ रही हैं, जहां पर चुनावी कार्यक्रमों के लिए कोविड नियमों का उल्लंघन के आरोप लग रहे हैं. अब सोमवार को चुनाव आयोग ने पंजाब चुनावों में प्रचार के लिए नोटिस भेजा है. पंजाब के संगरूर में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार भगवंत मान (Bhagwant Mann) पर प्रचार के दौरान कोरोना नियम के उल्लंघन का आरोप लगा है, जिसके चलते EC ने उन्हें नोटिस भेजा है.

पंजाब में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार भगवंत मान मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनने और धुरी से उम्मीदवार घोषित होने के बाद रविवार को पहली बार अपने निर्वाचन क्षेत्र धुरी पहुंचे थे. धुरी सीट संगरूर जिले में आती है.

दरअसल, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब और मणिपुर में आठ जनवरी को चुनाव की तारीखों की घोषणा करते हुए निर्वाचन आयोग ने 15 जनवरी तक  रैलियों, रोड शो और बाइक रैलियों तथा इसी तरह के प्रचार कार्यक्रमों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी. आयोग ने 15 जनवरी को प्रतिबंध को 22 जनवरी तक बढ़ा दिया था. शनिवार को इसे बढ़ाकर 31 जनवरी कर दिया गया.

पंजाब में AAP के CM उम्‍मीदवार भगवंत मान से सुनिए राजनीति के 'जंगल बुक' की कहानी

बता दें कि आज पंजाब में आम आदमी पार्टी अपना चुनावी नारा लॉन्च करने वाली है. आज दोपहर 1:30 बजे भगवंत मान जालंधर में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे, जिसमें पार्टी के चुनावी नारे की घोषणा की जाएगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि पंजाब में चुनाव की तारीखें रविदास जयंती की यात्रा के चलते बदली गई हैं. यहां 117 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव अब 14 फरवरी के बजाय 20 फरवरी को एक चरण में हो रहे हैं. संशोधित कार्यक्रम के मुताबिक अब अधिसूचना 25 जनवरी को जारी की जाएगी और नामांकन की अंतिम तारीख 1 फरवरी होगी. नामांकन पत्रों की जांच 2 फरवरी को की जाएगी और 4 फरवरी तक नाम वापस लिए जा सकेंगे. मतों की गणना सभी पांचों चुनावी राज्यों में 10 मार्च को होनी है.