पंजाब में AAP के CM उम्‍मीदवार भगवंत मान से सुनिए राजनीति के 'जंगल बुक' की कहानी

एक पूछे गए सवाल के जवाब में मान ने NDTV से कहा, 'मेरे लिए पंजाब में चुनौती बिल्कुल है. मुझे टीम को साथ लेकर चलना है. पौने 3 करोड़ लोगों के टीम को साथ लेकर चलना है. एकात नेता बदल जाए तो कोई फर्क नहीं पड़ता है. पार्टी की नीति-नीयत नहीं बदलनी चाहिए.'

नई दिल्ली:

पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी (AAP) ने भगवंत मान को अपना मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनाया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री और 'आप' के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भगवंत मान के नाम की घोषणा की है. पार्टी के सर्वे में 93.3 फीसदी लोगों ने सरदार भगवंत मान को पसंद किया है. जब इसी पर NDTV ने भगवंत मान से बातचीत की तो उन्होंने कहा, 'आज पंजाब की इतिहास में बड़ा दिन है. क्योंकि इतिहास में पहली बार हुआ है कि सीएम उम्मीदवार को लेकर लोगों से पूछा गया. साढ़े 21 लाख लोगों ने विश्वास जताया, जिससे मेरा हौसला बढ़ा. लेकिन साथ ही मेरी जिम्मेदारी भी बढ़ गई.'

मान ने कहा कि, 'मैं बहुत बहुत शुक्रगुजार हूं कि पार्टी ने मुझे इस काबिल समझा. मैं वादा करता हूं कि तनदेही से जिम्मेदारी निभाऊंगा. कोई ताजपोशी नहीं. आज सिर्फ चेहरे का ऐलान हुआ है. ये काम तो हम 10 मार्च को करेंगे. जब पंजाब के लोग अपनी सरकार बनाएंगे और खुशियां मनाएंगे. जिसमें सभी फैसले उनके अपने होंगे. उनकी मर्जी के मुताबिक होंगे.'

एक पूछे गए सवाल के जवाब में मान ने NDTV से कहा, 'मेरे लिए पंजाब में चुनौती बिल्कुल है. मुझे टीम को साथ लेकर चलना है. पौने 3 करोड़ लोगों के टीम को साथ लेकर चलना है. देखिए एकात नेता बदल जाए तो कोई फर्क नहीं पड़ता है. पार्टी की नीति-नीयत नहीं बदलनी चाहिए. आप पंजाब में कांग्रेस की हालत देख लो, कि फिरोजपुर देहात से अपनी सीटिंग विधायक को छोड़कर हमारे वाले को ले रहे हैं. कि ये नया लड़का है, इसे लड़ाते हैं.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने कहा कि, 'यहां से कांग्रेस की खस्ताहालत भी लोगों के सामने आ रही है.' किसानों के मुद्दे पर जवाब देते हुए सीएम उम्मीदवार ने कहा, 'किसान अब चुनावों में जाएंगे. पहले वो कह रहे थे कि राजनीतिक दल उनके मंच पर ना आएं. अब वो खुद राजनीतिक लड़ाई लड़ रहे हैं. लोगों को सब पता है कि कौन किसका नुकसान करने आया है. कौन कितने पानी में है. लोगों ने पहले से मन बना रखा है कि पंजाब में आप को वोट देना है. इनको दिल्ली में अच्छी सरकार चलाने का अनुभव है. अस्पताल, बिजली, पानी और स्कूल...ये पंजाब में भी ठीक हो जाएंगे.'