छत्‍तीसगढ़: सड़क न होने के कारण गर्भवती महिला को बर्तन में बैठाकर पार करानी पड़ी नदी, तब पहुंच पाई अस्‍पताल

गर्भवती महिला ने 14 जुलाई को करीब 15 किमी दूर अस्पताल जाने के लिए गोरला में अपने परिवार की मदद से बर्तन में बैठकर नदी को पार किया.

छत्‍तीसगढ़: सड़क न होने के कारण गर्भवती महिला को बर्तन में बैठाकर पार करानी पड़ी नदी, तब पहुंच पाई अस्‍पताल

बड़े बर्तन में बैठाकर लोगों ने गर्भवती महिला को नदी पार कराई

छत्‍तीसगढ़ (Chhattisgarh) राज्‍य के बीजापुर जिले में एक गर्भवती महिला (Pregnant woman) की बड़े बर्तन में बैठकर नदी पार करने की यह फोटो देश के गांवों तक जरूरी सुविधाएं पहुंचाने के शासन के दावों की पोल खोलती नजर आ रही है. समाचार एजेंसी ANI के अनुसार, सड़क मार्ग और पुल न होने के कारण इस महिला के परिवार को ऐसा करने पर मजबूर होना पड़ा. इस गर्भवती महिला ने 14 जुलाई को करीब 15 किमी दूर अस्पताल जाने के लिए गोरला में अपने परिवार की मदद से बर्तन में बैठकर नदी को पार किया. इस महिला ने बाद में बच्चे को जन्म दिया. परिवार ने महिला के इलाज में भी लापरवाही का आरोप लगाया है.


गौरतलब है कि पिछले दिनों इसी तरह की घटना उत्‍तर बिहार के केवटी प्रखंड के असराहा गांव में सामने आई थी जब एक गर्भवती महिला को ट्यूब की मदद से बनी जुगाड़ नाव के जरिये नदी पार करनी पड़ी थी. बाढ़ के पानी में गांव के घिरने के कारण जब गर्भवती महिला (Hospital) को अस्पताल पहुंचाने के लिए कोई साधन नहीं मिला तो परिवारवालों ने 'जुगाड़' से नाव बनाई और किसी तरह गांव से निकाल कर अस्पताल पहुंचाया मामला दरभंगा जिले के असराहा गांव का है. जहां पूरे इलाके में बाढ़ का पानी गया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इसी दौरान आठ माह की गर्भवती महिला रुखसाना परवीन को अचानक पेट में तेज़ दर्द शुरू हो गया. बाढ़ के पानी में घिरे होने के कारण सड़क डूब चुकी थी. कमरभर से ज्यादा पानी होने के कारण घर से निकलना मुश्किल था. इस मुश्किल परिस्थिति के बीच मजबूर घरवालों ने जुगाड़ टेक्नोलॉजी से गाड़ियों के ट्यूब की नाव बनाई. इसके ऊपर लकड़ी डालकर गर्भवती महिला और उसकी मां को बिठाकर कई युवक जुगाड़ की इस नाव को धक्‍का देते हुए घर से निकाल कर बाहर लाए. इसके बाद मुख्य सड़क पर आये और फिर ऑटो पकड़कर महिला को तुरंत प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र केवटी पहुचाया गया जहां महिला का इलाज़ किया गया.