कोविड के मरीजों को अब अस्पताल में दाखिले के लिए कोरोना पोजिटिव रिपोर्ट की जरूरत नहीं होगी

कोरोना के मरीजों को अस्पताल में दाखिले को लेकर नेशनल पॉलिसी में बदलाव किया गया है. अब तक एडमिट होने के लिए कोविड पॉजिटीव रिपोर्ट अनिवार्य़ होती थी.

कोविड के मरीजों को अब अस्पताल में दाखिले के लिए कोरोना पोजिटिव रिपोर्ट की जरूरत नहीं होगी

कोविड फैसिलिटी में भर्ती के लिए कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट अनिवार्य नहीं है (तस्वीर- प्रतीकात्मक)

नई दिल्ली:

कोरोना के मरीजों को अस्पताल में दाखिले को लेकर नेशनल पॉलिसी में बदलाव किया गया है. अब तक एडमिट होने के लिए कोविड पॉजिटीव रिपोर्ट अनिवार्य़ होती थी. नए बदलाव के तहत अब रिपोर्ट की जरुरत नहीं होगी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के चीफ सेक्रेटरी को निर्देश दिया है. जिसके अनुसार 3 दिनों के भीतर नई नीति को अमल में लाएं. इस नीति के तहत ऐसे संदिग्ध मरीजों को सस्पेक्टेड वार्ड में दाखिला मिल सकेगा. इसमें कोविड केयर सेंटर, पूर्ण समर्पित कोविड केयर सेंटर और कोविड अस्पताल शामिल हैं. साथ ही नई पॉलिसी में यह भी साफ किया गया है कि मरीजों को इस आधार पर इनकार नहीं किया जा सकता को वह किस राज्य से हैं. किसी भी मरीज को कहीं भी दाखिला मुमकिन होगा. 

Read Also: SC ने जेलों में कोरोना संक्रमण पर जताई चिंता, कहा- राज्य सरकार पैरोल पर कैदियों को रिहा करें

आदेश के अनुसार कोविड रिपोर्ट का पॉजिटिव होना जरूरी नहीं, लक्षणों वाले संदिग्ध मरीजों को भी अस्पताल में रखा जा सकेगा. इस बदलाव से इलाज के लिए भटकते मरीज के परिजनों का खासी राहत मिलेगी. दरअसल कई अस्पताल कोविड रिपोर्ट निगेटिव होने के चलते अस्पताल में मरीज का दाखिला लेने से इनकार कर देते हैं तो वहीं कुछ मरीजों को इस लिए दाखिला नहीं मिलता है क्योंकि उनके मरीज में कोविड के लक्षण दिखाई दे रहे हैं. 


Read Also: पीएम मोदी ने 4 राज्यों के CM से जाना कोरोना की स्थिति का हाल, उद्धव सरकार के प्रयासों को सराहा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बताते चलें कि अब तक कोविड वार्ड में उन्हें ही दाखिला मिलता था जिनके पास RT PCR पॉजिटिव रिपोर्ट होती थी. पिछले कुछ दिनों से संक्रमण की रफ्तार बढ़ने के साथ कई राज्यों में आरटीपीसीआर रिपोर्ट मिलने में अधिक समय लगने लगा है, ऐसे में मरीज को सही समय पर इलाज नहीं मिल पाता था.अब बदलाव के बाद समय रहते इलाज शुरू हो सकेगा.