गुजरात आपदा प्रबंधन संस्थान और इस प्रोफेसर को मिलेगा 'नेताजी अवार्ड'

सरकार ने पिछले साल यह भी घोषणा की थी कि सुभाष चंद्र बोस की जयंती हर साल 'पराक्रम दिवस' के रूप में मनाई जाएगी.

गुजरात आपदा प्रबंधन संस्थान और इस प्रोफेसर को मिलेगा 'नेताजी अवार्ड'

इस पुरस्कार की घोषणा हर साल नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के अवसर पर की जाती है.

नई दिल्ली:

आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में भारत में लोगों और संगठनों के योगदान और सेवा को सम्मानित करने के क्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार देंगे. समारोह के दौरान पिछले चार वर्षों के विजेताओं के लिए कुल सात पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे, इस वर्ष का पुरस्कार संस्थागत श्रेणी में गुजरात आपदा प्रबंधन संस्थान और व्यक्तिगत श्रेणी में प्रोफेसर विनोद शर्मा को दिया जाएगा.

सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार की घोषणा हर साल 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के अवसर पर की जाती है. संस्थागत श्रेणी में पुरस्कार के रूप में 51 लाख रुपए नकद और एक प्रमाण पत्र और व्यक्तिगत श्रेणी में 5 लाख रुपए नकद और एक प्रमाण पत्र दिया जाता है.

देश के लिए नेताजी के महत्वपूर्ण योगदान पर हर भारतीय को गर्व है : प्रधानमंत्री मोदी

सरकार ने पिछले साल यह भी घोषणा की थी कि सुभाष चंद्र बोस की जयंती हर साल 'पराक्रम दिवस' के रूप में मनाई जाएगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस वर्ष के लिए, साल 2012 में स्थापित गुजरात आपदा प्रबंधन संस्थान (जीआईडीएम) को संस्थागत श्रेणी में चुना गया है. वहीं, व्यक्तिगत श्रेणी में भारतीय लोक प्रशासन संस्थान के वरिष्ठ प्रोफेसर और सिक्किम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष प्रोफेसर विनोद शर्मा को चुना गया है. वह राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन केंद्र के संस्थापक समन्वयक थे, जिसे अब राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान के रूप में जाना जाता है.