मुफ्त इंटरनेट की सुविधा के साथ हवाई सफर का आपका मजा अब होगा दोगुना...

अगले 12 से 18 महीने में स्पाइस जेट अपने पूरे पुराने फ्लीट को बोइंग 737 max से रिप्लेस करने वाला है.  उड़ान के दौरान ब्रॉडबैंड इंटरनेट की मुफ्त सुविधा मिलेगी. हालांकि जहां इंटरनेट तो खंगाला जा सकेगा पर कॉलिंग की सुविधा नहीं होगी. एक्स्ट्रा लेगरूम जिससे इत्मीनान से बैठकर सफर मुमकिन हो पाएगा. 

मुफ्त इंटरनेट की सुविधा के साथ हवाई सफर का आपका मजा अब होगा दोगुना...

अगले 12 से 18 महीने में स्पाइस जेट अपने पूरे पुराने फ्लीट को बोइंग 737 max से रिप्लेस करेगा (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली :

उड़ान के दौरान भी अब आपके पास ब्रॉडबैंड इंटरनेट की सुविधा होगी. स्पाइस जेट बोइंग 737 max के ज़रिए दिसंबर के आखिर से ये मुमकिन कर रहा है. अलग-अलग हादसों के बाद से पिछले 2 साल से ज़्यादा वक्त से बोइंग 737 मैक्स उड़ान नहीं भर रहा था. अगले 12 से 18 महीने में स्पाइस जेट अपने पूरे पुराने फ्लीट को बोइंग 737 max से रिप्लेस करने वाला है.  उड़ान के दौरान ब्रॉडबैंड इंटरनेट की मुफ्त सुविधा मिलेगी. हालांकि जहां इंटरनेट तो खंगाला जा सकेगा पर कॉलिंग की सुविधा नहीं होगी. एक्स्ट्रा लेगरूम जिससे इत्मीनान से बैठकर सफर मुमकिन हो पाएगा. 

मेघालय के CM ने शेयर किया Flight के Take-off करते हुए बाहर का Video, बोले- अद्भुत नज़ारा

इतना ही नहीं, पुराने एयरक्राफ्ट से बोइंग 737 मैक्स में नाइट्रोजन 50% और कार्बन उत्सर्जन 14% तक कम होता है. ईंधन की खपत भी 20% कम और उड़ान में केबिन में शोर 40% तक कम होता है. इन जहाजों में प्रीमियम इकॉनमी की 5 कतारें (Row) हैं. स्पाइस जेट के सीएमडी अजय सिंह ने बताया कि Max 737 दुनिया का सबसे सेफ एयरक्राफ्ट है. ढाई लाख से ज्यादा फ्लाइट उड़ चुकी हैं रेक्टिफिकेशन के बाद और तकरीबन 6 लाख घंटे ये जहाज़ उड़ चुका है. करीब डेढ़ लाख करोड़ का ऑर्डर है जो हमने बोइंग को प्लेस किया है. 155 बोइंग 737 मैक्स को लेकर स्पाइस जेट और बोइंग के बीच करीब 1.5 लाख करोड़ रु का करार हुआ है. पूरी डिलीवरी डेढ़ साल के भीतर होगी. 

SpiceJet की फ्लाइट से यात्रा कर रहे हैं, तो अब उड़ान के दौरान ही बुक कर सकेंगे टैक्सी


इस नई शुरुआत के बीच स्पाइस जेट के सीएमडी ने कहा कि कोरोना के मुश्किल हालात में की गई सैलरी कटौती को तीन महीने पहले फिर से बहाल कर दिया गया है. अजय सिंह ने बताया कि हमने कोई भी छंटनी ( retrenchment) नहींकी, किसी को नहीं निकाला.  जितने पैसे हमारे पास थे उसी पैसे हमने सब एम्प्लॉय के बीच वेतन के तौर पर दिया. सबको कम पैसे मिले लेकिन सबको मिले पर नौकरी से हमने किसी को निकाल नहीं. अब जब चीज़ें ठीक हो रही हैं कुछ लोग सामने आए उन्होंने कहा कि जो पैसा आपने पहले हमें नहीं दिया था उसको अब देना चाहिए लेकिन ये बहुत ही छोटी संख्‍या है. दरअसल, 2 साल पहले विदेश में बोइंग 737 के दो अलग अलग हादसों में 346 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी. इसके बाद हार्डवेयर से लेकर सॉफ्टवेयर में मोडिफिकेशन किए गए और अभी दुनिया के 195 रेगुलेटर में से 175 ने इस एयरक्राफ्ट को अपने एयरस्पेस में उड़ान भरने की अनुमति दी है.

कोविड टीके से अब तक दूरी बनाए रखने वाले लोगों तक पहुंच रहीं आशा कार्यकर्ता

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com