दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकवादी गिरफ्तार, अदालत ने 14 दिन की पुलिस रिमांड में भेजा

दिल्ली में पाकिस्तानी आतंकी की गिरफ्तारी ऐसे वक्त हुई है, जब कश्मीर में पिछले कुछ दिनों में आतंकी वारदातें बढ़ी हैं. दिल्ली पुलिस ने कुछ दिनों पहले ही अलर्ट किया था कि त्योहारों के दौरान आतंकी हमले की आशंका है. इसको लेकर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई थी.

नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने राजधानी में बड़े आतंकी खतरे को नाकाम कर दिया है. दिल्ली पुलिस ने लक्ष्मीनगर से एक आतंकी को गिरफ्तार किया है, जिसके पास से एके-47, हैंड ग्रेनेड बरामद किया गया है. गिरफ्तार आतंकी का नाम मोहम्मद अशरफ बताया जा रहा है. उसके पास से फर्जी पासपोर्ट और गोलियां भी बरामद की की गई है. वो पाकिस्तान के नारोवाल प्रांत का रहने वाला बताया जाता है. दिल्ली में पाकिस्तानी आतंकी की गिरफ्तारी ऐसे वक्त हुई है, जब कश्मीर में पिछले कुछ दिनों में आतंकी वारदातें बढ़ी हैं. दिल्ली पुलिस ने कुछ दिनों पहले ही अलर्ट किया था कि त्योहारों के दौरान आतंकी हमले की आशंका है. इसको लेकर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई थी. बाद में उसे पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया जहां से अदालत ने उसे 14 दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया.

बताया जा रहा है कि उसने फर्जी दस्तावेजों के आधार पर शास्त्री पार्क के पते पर एक भारतीय पहचान पत्र बनवाया था, जिसमें उसका नाम अली अहमद नूरी है. उसकी निशानदेही पर कालिंदी कुंज के यमुना घाट से एक AK-47 , 60 कारतूस,एक हैंड ग्रेनेड ,2 पिस्टल और उसके 50 कारतूस बरामद हुई हैं.तुर्कमान गेट से उसका एक फ़र्ज़ी पासपोर्ट बरामद हुआ है.  फिलहाल उससे पूछताछ जारी है. 

स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा ने बताया कि पाकिस्तानी नागरिक मोहम्मद अशरफ को गिरफ्तार किया गया है. वह 15 साल से भारत में रह रहा था. उसकी निशानदेही पर हथियार मिले हैं. ये स्लीपर सेल की तरह काम कर रहा था और अभी आतंकी हमला करने की फिराक में था. ये बांग्लादेश के रास्ते भारत आया था.' उन्होंने बताया कि अशरफ जो भी कर रहा था वो आईएसआई के कहने पर कर रहा था. ये इंडियन पासपोर्ट पर सऊदी अरब और थाईलैंड गया है. इसने एक भारतीय महिला से ग़ाज़ियाबाद में शादी भी की थी ,लेकिन उसे छोड़ दिया था. इसको एक पाकिस्तानी जिसका कोड नेम नासिर था उसने टास्क दिया था. वेपन भी उसी ने मुहैया कराए. इसको हवाला से पैसा आता था. इसने पहचान छिपाने के लिए खुद को पीर मौलाना घोषित कर लिया था और झाड़ फूंक करता था. ये जम्मू कश्मीर समेत कई जगहों पर आतंकी गतिविधियों में शामिल रहा है. ये कई जगहों पर अजमेर, कश्मीर समेत कई जगहों पर रहा है और दिल्ली में इसके शास्त्री नगर और लक्ष्मी नगर में ठिकाने हैं. आईएसआई ने इसे 10वीं पास करने के बाद ही अपने जाल में फंसा लिया था, इसने वहां 6 महीने की ट्रेनिंग की थी.


सूत्रों के मुताबिक- पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI बड़ी साजिश रच रही है. उनका टारगेट कई बड़े शहर और भीड़भाड़ वाले मार्केट हैं. त्योहारी मौसम में आतंकी IED ब्लास्ट की साजिश रच रहे हैं. इनके प्लास्टिक लंच बॉक्स के जरिए धमाकों की साजिश की बात सामने आई है.  आईएसआई के इशारे पर आतंकी संगठन कास नाला, कांची गैप और स्मगलर गैप के जरिए हिन्दुस्तान में घुसपैठ की फिराक में लगे हैं. बॉर्डरों पर भी सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में मंगलवार को एक मुठभेड़ के दौरान लश्कर-ए-तैयबा द रेजिस्‍टेंस फ्रंट के कम से कम तीन आतंकवादी मारे गए हैं. पुलिस ने बताया कि उनके पास से आपत्तिजनक सामग्री के साथ हथियार और गोला-बारूद भी बरामद किया गया है. इनमें से एक की पहचान हुई है और अन्‍य के बारे में पता लगाया जा रहा है. शोपियां एनकाउंटर के इमामसाहब इलाके के तुलरान में सोमवार को शुरू हुआ था.  मारे गए आतंकियों में एक मुख्तार शाह भी हैं जो श्रीनगर में बिहार के हॉकर वीरेंद्र पासवान की हत्या में शामिल था. सोमवार शाम को सुरक्षा बलों को इनपुट मिला था कि शोपियां के तुलरन में आतंकी  छिपे हुए हैं. इसके बाद सेना, सीआरपीएफ और पुलिस ने घेराबंदी कर कार्रवाई शुरू की.  आतंकियों से सरेंडर करने की बार बार अपील की गई. हालांकि आतंकियों ने सुरक्षा बलों की बात अनसुनी कर दी और उन पर फायरिंग शुरू कर दी. मुठभेड़ में तीनों आतंकी मार गिराए गए. मारे गए आतंकियों के पास से गोला बारूद और हथियार मिले है. फिलहाल इलाके में तलाशी अभियान चलाया जा रहा है.