भारत में 'Omicron'का एक और केस आया, जिम्बाब्वे से लौटा था शख्स, कुल संख्या हुई तीन

ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित व्यक्ति को गुरुवार को कोरोना पॉजिटिव गया था और युवक का सैंपल Genome Sequencing के लिए भेजा गया था.

भारत में कोरोना वायरस के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट संक्रमण (Omicron Variant) का तीसरा मामला सामने आ गया है. गुजरात के जामनगर में जिम्बाब्वे से लौटा एक युवक ओमिक्रॉन से संक्रमित पाया गया है. स्वास्थ्य विभाग ने इसकी जानकारी दी है. न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, गुरुवार को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद युवक का सैंपल Genome Sequencing के लिए भेजा गया था. पीटीआई ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि इसकी पुष्टि गुजरात स्वास्थ्य आयुक्त जय प्रकाश शिवहरे ने की है.

अब बच्चों-बुजुर्गों पर मंडराया कोविड का खतरा: 5 साल से कम उम्र वालों में तेजी से फैल रहा संक्रमण: विशेषज्ञ

जामनगर के 72 साल के बुजुर्ग को ओमिक्रॉन से संक्रमित पाया गया है. उसको कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद नमूना जीनोम सीक्वेंसिंग (genome sequencing) के लिए भेजा गया था. इसके बाद आज उसके नए वैरिएंट ओमिक्रोन से संक्रमित पाए जाने की आज पुष्टि हुई. ओमिक्रोन से संक्रमित ये व्यक्ति जहां ठहरा है, उसके आसपास एक माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाया गया है. उसके संपर्क में आने वाले लोगों का पता लगाया जा रहा है और उनकी टेस्टिंग की जा रही है. 

इससे पहले भारत में दो और मामले सामने आए हैं. इसमें एक 46 वर्ष का डॉक्टर शामिल है, जिसे कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी थीं. उसकी कोई ट्रेवल हिस्ट्री भी नहीं थी और उसमें बुखार, बदन दर्द जैसे कोई लक्षण थे. दूसरा व्यक्ति दक्षिण अफ्रीका नागरिक है, जो कोविड-19 की निगेटिव रिपोर्ट लेकर भारत आया था, लेकिन यहां उसके कोविड पॉजिटिव पाए जाने की पुष्टि हुई, जो बाद में ओमीक्रोन वेरिएंट निकला. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एएनआई के मुताबिक, गुजरात के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय में अतिरिक्त स्वास्थ्य सचिव मनोज अग्रवाल ने कहा, हमने उन्हें आइसोलेशन में रखा है और उनके स्वास्थ्य की लगातार निगरानी की जा रही है. ट्रेसिंग, टेस्टिंग और ट्रैकिंग का पूरा ध्यान रखा जा रहा है. सभी विदेश यात्रियों की टेस्टिंग और सर्विलांस की प्रक्रिया भारत ने तेज कर दी है. खासकर जोखिम की श्रेणी वाले देशों से आने वालों पर फोकस किया जा रहा है. ओमिक्रॉन वैरिएंट सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था.