ओमिक्रॉन संक्रमित मरीज होटल से भागा, 10 लापता यात्रियों को तलाश रही कर्नाटक सरकार

कर्नाटक के मंत्री आर अशोक ने ओमिक्रॉन पर एक शीर्ष स्तरीय बैठक के बाद कहा, "आज रात तक कथित तौर पर लापता हुए सभी 10 लोगों का पता लगाया जाना चाहिए और उनका टेस्ट किया जाना चाहिए. यात्रियों को उनकी रिपोर्ट आने तक एयरपोर्ट से बाहर नहीं जाने दिया जाएगा."

नई दिल्ली:

कर्नाटक सरकार ने आज शुक्रवार को कहा कि राज्य में ओमिक्रॉन पॉजिटिव पाए गए दो लोगों में से एक, प्राइवेट लैब से कोविड नेगेटिव सर्टिफिकेट लेने के बाद "भाग गया". राज्य उन 10 और लोगों का पता लगाने की कोशिश कर रहा है जो कथित तौर पर एयरपोर्ट से लापता हो गए थे. कर्नाटक के राजस्व मंत्री आर अशोक ने ओमिक्रॉन पर एक शीर्ष स्तरीय बैठक के बाद कहा, "आज रात तक कथित तौर पर लापता हुए सभी 10 लोगों का पता लगाया जाना चाहिए और उनका टेस्ट किया जाना चाहिए. यात्रियों को उनकी रिपोर्ट आने तक एयरपोर्ट से बाहर नहीं जाने दिया जाएगा."

मंत्री ने अपने बयान में कहा कि एक 66 वर्षीय दक्षिण अफ्रीकी नागरिक ओमिक्रॉन संक्रमित पाया गया था और वह भाग गया. उन्होंने कहा कि लगभग 57 अन्य यात्रियों का भी टेस्ट किया जाएगा, जो उसी समय के आसपास एयरपोर्ट पर पहुंचे थे. भले ही उन सभी यात्रियों का आरटी-पीसीआर टेस्ट नेगेटिव क्यों न आया हो. "लापता" लेबल वाले 10 लोगों ने अपने फोन बंद कर दिए हैं और उनसे संपर्क नहीं हो पा रहा है.

मंत्री ने कहा, "अब सभी का टेस्ट किया जाएगा क्योंकि उनमें से एक ने नेगेटिव कोविड टेस्ट रिपोर्ट तो दिखाई लेकिन उसकी ओमिक्रॉन टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है." वह व्यक्ति 20 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका से आया था और सात दिन बाद दुबई के लिए रवाना हुआ था.

उन्होंने कहा, "हमने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है और वे देखेंगे कि शांगरी-ला होटल में क्या गलत हुआ, जहां से वह व्यक्ति भाग गया." मंत्री ने कहा कि जिस दिन वह व्यक्ति आया, वो पूरी तरह से वैक्सीनेटेड था. उस दिन होटल में जांच की गई तो उसकी COVID-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आई. वह एक नेगेटिव कोविड टेस्ट रिपोर्ट के साथ आया था.

जब एक सरकारी डॉक्टर होटल में उससे मिलने गए, तो उसे एसिम्पटमैटिक पाया गया और डॉक्टर ने उसे सेल्फ आइसोलेट रहने की सलाह दी. लेकिन वह "जोखिम में" लिस्टेड देशों में से एक था, इसलिए उसके सैंपल फिर से 22 नवंबर को जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजे गए.

उसके संपर्क में आए 24 लोगों का टेस्ट किया गया और वे नेगेटिव पाए गए. अधिकारियों ने 240 सेकेंड्री कॉन्टैक्ट्स का भी टेस्ट किया और उनका भी टेस्ट नेगेटिव पाया गया.


बता दें कि 23 नवंबर को भागे यात्री ने एक प्राइवेट लैब में टेस्ट कराया था जिसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई थी. 27 नवंबर की आधी रात उसने होटल से चेक आउट किया. एयरपोर्ट के लिए कैब ली और दुबई की फ्लाइट से रवाना हो गया. ओमिक्रॉन की पुष्टि तब हुई जब वह जा चुका था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री के सुधाकर ने कहा कि एयरपोर्ट पर बिना टेस्ट के लापता हुए अफ्रीका के यात्रियों का पता लगाने को प्राथमिकता दी गई है. सुधाकर ने कहा, "अतीत में, हमारे पुलिस विभाग ने भागने वालों को ट्रैक करने के क्रम में अच्छा काम किया है. हमारी पुलिस अपनी दक्षता का प्रदर्शन करते हुए फिर लापता यात्रियों को ट्रैक करेगी. लेकिन मैं यात्रियों से जिम्मेदारी से और सामाजिक चिंता के साथ कार्य करने का आग्रह करता हूं."