अमित शाह के 'गुपकर गैंग' वाले हमले का उमर अब्दुल्ला ने दिया जवाब- 'मैं आपका फ्रस्टेशन समझ सकता हूं...'

उमर अब्दुल्ला ने अपने ट्वीट में लिखा, 'मैं आदरणीय गृहमंत्री के इस हमले के पीछे के गुस्से को समझ सकता हूं. उन्हें बताया गया था कि पीपुल्स अलायंस चुनावों का बहिष्कार करने की तैयारी कर रहा है. अगर ऐसा होता तो बीजेपी और नई बनी पार्टी को जम्मू-कश्मीर में मनमर्जी छूट मिल जाती. हमने उनके मनमुताबिक फैसला नहीं लिया.'

नई दिल्ली:

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (HM Amit Shah) ने मंगलवार को जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस समिति (JKPCC) के गुपकर घोषणापत्र गठबंधन (People's Alliance for Gupkar Declaration) में शामिल होने को लेकर हमला किया था, जिसपर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) की तीखी प्रतिक्रिया आई है. उमर अब्दुल्ला ने शाह के ट्वीट के जवाब में तीन ट्वीट किए और यह कहते हुए अपनी बात की शुरुआत की कि वो अमित शाह का गुस्सा समझ सकते हैं.

उमर अब्दुल्ला ने अपने ट्वीट में लिखा, 'मैं आदरणीय गृहमंत्री के इस हमले के पीछे के गुस्से को समझ सकता हूं. उन्हें बताया गया था कि पीपुल्स अलायंस चुनावों का बहिष्कार करने की तैयारी कर रहा है. अगर ऐसा होता तो बीजेपी और नई बनी पार्टी को जम्मू-कश्मीर में मनमर्जी छूट मिल जाती. हमने उनके मनमुताबिक फैसला नहीं लिया.'

नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष अब्दुल्ला ने कहा, 'बस जम्मू-कश्मीर में ही नेताओं को हिरासत में लिया जा सकता है और लोकतांत्रिक प्रकियाओं और चुनावों में हिस्सा लेने के लिए राष्ट्रविरोधी बुलाया जा सकता है. सच्चाई यह है कि जो भी बीजेपी की विचारधारा का विरोध करता है, उसे भ्रष्ट और राष्ट्रद्रोही का लेबल दे दिया जाता है.'

उन्होंने आखिर में कहा, 'हम कोई 'गैंग' नहीं है अमित शाह जी, हम वैध तरीके से बने राजनीतिक गठबंधन हैं, जो चुनावों में लड़ता रहा है, और लड़ता रहेगा, जिससे कि आपको निराशा हो रही है.'


यह भी पढ़ें : 'परेशान नहीं हूं, बस लंच मिस हो गया'- जब ED की सात घंटे लंबी पूछताछ के बाद बोले फारुख अब्दुल्ला

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि अमित शाह ने अपने हमले में कहा था कि 'गुपकर गैंग वैश्विक (ग्‍लोबल) हो रहा है. वे चाहते हैं कि विदेशी सेना जम्‍मू-कश्‍मीर में हस्‍तक्षेप करे. गुपकर गैंग, भारत के तिरंगे का भी अपमान करता है. क्‍या सोनिया जी और राहुल जी गुपकर गैंग की ऐसी चालों का समर्थन करते हैं. उन्‍हें भारत के लोगों के समक्ष अपना रुख स्‍पष्‍ट करना चाहिए.' उनके ट्वीट के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी कांग्रेस पर हमला किया. और इसके पहले कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी सोमवार को इस मसले को लेकर कांग्रेस को घेरा था.