हत्या मामले में आरोपी ओलंपिक पदक विजेता सुशील गिरफ्तार, पुलिस ने रखा था 1 लाख रुपए का इनाम

Wrestler Sushil Kumar arrested:  ओलंपिक में दो बार पदक जीतने वाले कुश्ती खिलाड़ी सुशील कुमार और एक अन्य व्यक्ति को छत्रसाल स्टेडियम में हुए झगड़े में एक पहलवान की कथित हत्या के सिलसिले में रविवार को यहां गिरफ्तार कर लिया गया.

नई दिल्ली:

Wrestler Sushil Kumar arrested: ओलंपिक में दो बार पदक जीतने वाले कुश्ती खिलाड़ी सुशील कुमार और एक अन्य व्यक्ति को छत्रसाल स्टेडियम में हुए झगड़े में एक पहलवान की कथित हत्या के सिलसिले में रविवार को यहां गिरफ्तार कर लिया गया. डिप्टी कमिश्नर (स्पेशल सेल) पी एस कुशवाह ने रविवार को बताया कि सुशील कुमार (38) और उनके सहयोगी अजय उर्फ सुनील (48) को मुंडका से गिरफ्तार किया गया है. मामले में सुशील पर पुलिस ने एक लाख जबकि उनके साथी अजय पर 50 हजार रुपये के इनाम का ऐलान किया गया था. साथ ही पहलवान के खिलाफ गैर जमानती वारंट भी जारी हुआ था. बताते चलें कि सुशील सिंह 4 मई के बाद से ही एक पहलवान की कथित हत्या के मामले में फरार चल रहे थे. आरोप है कि सुशील कुमार और कुछ अन्य पहलवानों द्वारा चार मई की रात को दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम कैंपस में हुई मारपीट में सागर राणा की मौत हो गयी थी. 

Read Also: पुलिस के बठिंडा पहुंचने से पहले ही गायब हुआ पहलवान सुशील कुमार

स्पेशल सीपी, स्पेशल सेल नीरज ठाकुर ने बताया कि पहलवान सुशील कुमार को टीम ने गिरफ्तार किया है, उन्होंने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि एसीपी अत्तर सिंह की की देख-रेख और इंस्पेक्टर शिवकुमार, इंस्पेक्टर करमबीर की अगुवाई में सुशील कुमार और अजय को दिल्ली के मुंडका से गिरफ्तार किया गया है. 


Read Also:  मशहूर पहलवान सुशील कुमार को झटका, हत्या मामले में अग्रिम जमानत याचिका खारिज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इससे पहले दिल्ली की एक अदालत ने सुशील कुमार को अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया था. कोर्ट ने कहा था कुश्ती खिलाड़ी कुमार प्रथमदृष्टया मुख्य साजिशकर्ता हैं और उनके खिलाफ लगाए गए आरोप गंभीर हैं. उनके खिलाफ खिलाफ हत्या, अपहरण और आपराधिक षड्यंत्र का मामला दर्ज किया गया है. कुमार ने 17 मई को दिल्ली की रोहिणी अदालत में अग्रिम जमानत के लिए गुहार लगाई थी, उन्होंने कहा था कि उनके खिलाफ जांच पक्षपातपूर्ण है और वह किसी चोट के लिए जिम्मेदार नहीं हैं. अपनी याचिका में सुशील कुमार ने जांच में शामिल होने की तथा घटना की ‘‘सच्ची और सही तस्वीर'' बताने की इच्छा जताई थी ताकि जांच एजेंसी को नतीजे पर पहुंचने में मदद मिले.