हिन्दू समाज का अपमान बर्दाश्त नहीं, शरजील उस्मानी पर हो कड़ी कार्रवाई : देवेंद्र फडणवीस

पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखा पत्र, शरजील उस्मानी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग

हिन्दू समाज का अपमान बर्दाश्त नहीं, शरजील उस्मानी पर हो कड़ी कार्रवाई : देवेंद्र फडणवीस

पूर्व मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र विधानसभा के विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस (फाइल फोटो).

नई दिल्ली:

''अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) के पूर्व छात्र शरजील उस्मानी (Sharjeel Usmani) ने 30 जनवरी 2021 को पुणे में आयोजित एल्गार परिषद में हिन्दू समाज के खिलाफ जो आपत्तिजनक वक्तव्य दिया उससे समस्त हिन्दू समाज की भावना आहत हुई है. शरजील उस्मानी के खिलाफ राज्य की सरकार को जल्द से जल्द कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए.'' यह मांग महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) से पत्र लिखकर की है.


अपने पत्र में फडणवीस ने लिखा है कि ''हिन्दवी स्वराज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी महाराज के महाराष्ट्र में कोई भी आए और यहां का माहौल खराब करके चला जाए, यह हमें मंजूर नहीं है. शरजील उस्मानी नामक दुर्भावना से युक्त युवा महाराष्ट्र में आकर हिन्दू समाज को अपमानित करता है और उसके ऊपर अभी तक कोई कानूनी कार्रवाई राज्य सरकार द्वारा नहीं की जाती है, यह आश्चर्यजनक है.'' 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री फडणवीस ने अपने पत्र में इस बात का ज़िक्र किया है कि 30 जनवरी 2021 को एल्गार परिषद पुणे में दिए हुए अपने भाषण में शरजील उस्मानी ने हिन्दू समाज के खिलाफ क्या कहा था. शरजील उस्मानी ने कहा था कि ‘आज का हिन्दू समाज, हिंदुस्तान में हिंदू समाज बुरी तरीके से सड़ चुका है. ये जो लोग लिंचिंग करते हैं, कत्ल करते हैं, ये कत्ल करने के बाद अपने घर जाते हैं तो क्या करते होंगे अपने साथ? कोई नए तरीके से हात धोते होंगे, कुछ दवा मिलाकर नहाते होंगे. क्या करते हैं ये लोग कि वापस आकर हमारे बीच खाना खाते हैं, उठते-बैठते हैं, फिल्में देखते हैं. अगले दिन फिर किसी को पकड़ते हैं फिर कत्ल करते और नॉर्मल लाइफ जीते हैं. अपने घर में मोहब्बत भी कर रहे हैं, अपने बाप का पैर भी छू रहे हैं, मंदिर में पूजा भी कर रहे हैं, फिर बाहर आकर यही करते हैं...'