दिल्ली : जीबी पंत अस्पताल में 'मलयालम बैन' पर बढ़ा विवाद, प्रशासन ने वापस लिया आदेश

दिल्ली के गोविंद बल्लभ पंत अस्पताल (Delhi GB Pant Hospital) में मलयालम भाषा (Malayalam Language) के इस्तेमाल पर रोक का फरमान प्रशासन को वापस लेना पड़ा है.

दिल्ली : जीबी पंत अस्पताल में 'मलयालम बैन' पर बढ़ा विवाद, प्रशासन ने वापस लिया आदेश

दिल्ली के जीबी पंत अस्पताल में मलयालम भाषा पर रोक का आदेश वापस (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

दिल्ली के गोविंद बल्लभ पंत अस्पताल (Delhi GB Pant Hospital) में मलयालम भाषा (Malayalam Language) के इस्तेमाल पर रोक का फरमान प्रशासन को वापस लेना पड़ा है. अस्पताल प्रशासन की ओर से कर्मचारियों के लिए आदेश जारी हुआ था कि वे अस्पताल परिसर में मलयालम भाषा का इस्तेमाल करेंगे तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी. मामला तूल पकड़ने लगा और कई वरिष्ठ नेताओं ने भी इस फरमान का विरोध किया. विवाद बढ़ता देख दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने जीबी पंत अस्पताल प्रशासन को यह आदेश वापस लेने के लिए कहा है.

'उचित समय आने पर भरे जाएंगे खाली पद' : कैबिनेट विस्तार की सुगबुगाहट के बीच राज्यपाल से मिलने पहुंचे यूपी BJP प्रभारी

सत्येंद्र जैन ने कहा कि जीबी पंत अस्पताल के नर्सिंग सुपरिंटेंडेंट को मीमो भी जारी किया जा रहा है. उनसे पूछा जाएगा कि कैसे इस तरह का आदेश जारी हुआ? 

बता दें कि मलयालम भाषा को लेकर जीबी पंत में जारी सर्कुलर के मुताबिक सभी नर्सों को हिंदी या अंग्रेजी भाषा में ही बात करने को कहा गया था. सर्कुलर में कहा गया था कि कि इन दोनों भाषाओं के अलावा अगर किसी और भाषा में बात करते कोई पकड़ा गया तो कार्रवाई की जाएगी.


अगर पिज्जा घर पर डिलीवर किया जा सकता है तो राशन क्यों नहीं : अरविंद केजरीवाल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


आइय अब आपको बताते हैं अस्पताल में मलयालम भाषा पर विवाद कैसे बढ़ा.. अस्पताल प्रशासन को एक शिकायत मिली थी कि नर्सिंग स्टाफ बोलचाल के लिए राज्य और स्थानीय भाषा का इस्तेमाल करते हैं. जिसके चलते मरीजों को असुविधा होती है. इस शिकायत के बाद ही जीबी पंत अस्पताल ने यह मलयालम भाषा को लेकर यह सर्कुलर जारी किया था.