MP पुलिस का हैरतंगेज कारनामा : खड़ी गाड़ियां 140KM की स्पीड से दौड़ा डकार लिए करोड़ों के डीजल 

मामले की जांच एसपी द्वारा कराई जा रही है. अभी तक प्राप्त सूचना के मुताबिक इस मामले में लाखों रुपए का गबन खुलकर हुआ है. फिलहाल, पांचों पुलिसकर्मियों पर एफआईआर दर्ज नहीं हुई है.

MP पुलिस का हैरतंगेज कारनामा : खड़ी गाड़ियां 140KM की स्पीड से दौड़ा डकार लिए करोड़ों के डीजल 

मामले की जांच एसपी द्वारा कराई जा रही है. अभी तक प्राप्त सूचना के मुताबिक इस मामले में लाखों रुपए का गबन खुलकर हुआ है. (Representative Image)

खास बातें

  • MP पुलिस ने पेट्रोल-डीजल के नाम पर किया करोड़ों का गबन
  • खड़ी गाड़ियों के मायलो मीटर में चिप लगाकर रीडिंग बढ़ाते थे
  • बढ़ी रीडिंग पर डीजल-पेट्रोल बाजार में बेच देते थे, बंदरबांट में खुला भेद
सिवनी (मध्य प्रदेश):

यूं तो आपने अफसरों के कई घोटालों के बारे में सुना होगा, पढ़ा होगा लेकिन मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की सिवनी पुलिस ने अनोखे ढंग से सरकारी खजाने को चूना लगाया है. पुलिस के अधिकारियों ने खड़ी गाड़ियों को 140 किलोमीटर की स्पीड से कागजों पर दौड़ा कर करोड़ों रुपए का गबन किया है. मामला चार पुलिसकर्मी और एक अधिकारी द्वारा पुलिस वाहनों के मायलो मीटर में चिप लगाकर खड़े वाहनों की रीडिंग बढ़ाने और उस रीडिंग के आधार पर डीजल और पेट्रोल बाजार में बेचने से जुड़ा है. 

यह गोरखधंधा पिछले साढ़े 3 सालों से बदस्तूर चल रहा था. इसकी भनक किसी को नहीं लग पाती लेकिन चारों पुलिसकर्मियों के बीच पैसों की बंदरबांट को लेकर जब बात बिगड़ी तो उन चारों में से ही किसी एक ने चुपचाप मायलो मीटर की रीडिंग बढ़ाने का वीडियो बनाकर वायरल कर दिया.

व्यापम घोटाला मामले में सीबीआई ने 60 आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया

जब इस मामले की भनक सिवनी एसपी कुमार प्रतीक को लगी तो उन्होंने आर आई सुनील नागवंशी, एएसआई शत्रुघ्न बोडके, सहायक अनिल सरेआम और दो वाहन चालक दीपक अमूल्य व उमाकांत दहके को निलंबित कर दिया. मामले की जांच एसपी द्वारा कराई जा रही है. अभी तक प्राप्त सूचना के मुताबिक इस मामले में लाखों रुपए का गबन खुलकर हुआ है. फिलहाल, पांचों पुलिसकर्मियों पर एफआईआर दर्ज नहीं हुई है.

हिन्दू देवताओं का 'अपमान' करने वाले कॉमेडियन को नहीं मिली बेल, कोर्ट ने दूसरी बार ठुकराई अर्जी


नाम न छापने की शर्त पर एक कर्मचारी ने कहा कि बिल पार्ट के प्रभारी एसपी होते हैं और एएसपी को ही इस जांच में शामिल करना शंका को जन्म देता है. उनके मुताबिक, अगर इसकी जांच उच्च अधिकारियों द्वारा की जाए तो करोड़ों के गबन का मामला सामने आ सकता है.

वीडियो- देश-प्रदेश : भारत के 5 राज्यों में बर्ड फ्लू का प्रकोप, हिमाचल में भी दस्तक

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com