मध्य प्रदेश और गुजरात ने 15-18 साल के किशोरों के वैक्सीनेशन के पहले दिन बनाया रिकॉर्ड

मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि पहले दिन दस लाख से ज्यादा बच्चों को कोवैक्सीन की डोज दी गई. गुजरात में यह आंकड़ा पांच लाख के करीब रहा.

मध्य प्रदेश और गुजरात ने 15-18 साल के किशोरों के वैक्सीनेशन के पहले दिन बनाया रिकॉर्ड

एमपी और गुजरात का 15-18 साल के आयु वर्ग में कोविड वैक्सीनेशन का रिकॉर्ड

भोपाल/अहमदाबाद:

भारत में सोमवार से कोरोना के खिलाफ 15-18 वर्ष के आय़ु वर्ग के किशोरों का (Kids Vaccination) शुरू हुआ. पहले दिन 40 लाख से ज्यादा वैक्सीनेशन इस आयु वर्ग में हुआ है, ये जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने भी साझा की. हालांकि पहले दिन सबसे ज्यादा वैक्सीनेशन का रिकॉर्ड मध्य प्रदेश और गुजरात के नाम रहा. मध्य प्रदेश ने जहां 10 लाख तो गुजरात ने 5 लाख से ज्यादा बच्चों का पहले दिन कोविड वैक्सीनेशन किया. मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि पहले दिन दस लाख से ज्यादा बच्चों को कोवैक्सीन की डोज दी गई. गुजरात में यह आंकड़ा पांच लाख के करीब रहा.

सारंग ने कहा कि सोमवार शाम तक 10 लाख दो हजार बच्चों का वैक्सीनेशन हो चुका था. देर रात तक यह आंकड़ा और बढ़ सकता है, क्योंकि 4-5 जिलों से और आंकड़े आने हैं. राज्य में इस अभियान के लिए 8923 वैक्सीनेशन सेंटर बनाए गए थे. मध्य प्रदेश का लक्ष्य 20 जनवरी तक सभी 48 लाख बच्चों के वैक्सीनेशन की पहली डोज देने का है. एमपी में 18 साल से अधिक उम्र के 95 फीसदी लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है, जबकि 92 फीसदी को दोनों डोज लग चुकी हैं. 

वहीं एक अन्य बीजेपीशासित राज्य गुजरात ने पहले 4.94 लाख किशोरों को कोरोना वैक्सीन दी. राज्य में इस 15-18 साल के आयु वर्ग में करीब 36 लाख बच्चे हैं. गुजरात का लक्ष्य इन सभी बच्चों को सात दिनों के भीतर वैक्सीन की पहली देने का है. बच्चों को कोवैक्सीन का टीका लगाया जा रहा है. गुजरात के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, शाम 4 बजे तक 4.94 लाख बच्चों को टीका लग चुका था, देर शाम तक यह 5 लाख के पार पहुंच जाने का अनुमान है. इसके लिए राज्य में 6 हजार से ज्यादा टीकाकरण केंद्र बनाए गए थे. 

हिमाचल प्रदेश में भी 90 हजार से ज्यादा किशोरों ने कोवैक्सीन का पहला डोज लिया. राज्य में इस आयु वर्ग के 3.57 लाख युवा हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा कि सोमवार को 15 से 18 आयु वर्ग में पहले दिन 40 लाख से अधिक किशोरों ने कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक ली. इस वर्ग में रात साढ़े आठ बजे तक कोविन पोर्टल पर 51 लाख से अधिक किशोरों ने पंजीकरण कराया था. मांडविया सोमवार दोपहर को आरएमएल अस्पताल में बच्चों के लिए कोविड वैक्सीनेशन सेंटर पहुंचे. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Covid वैक्सीन के लिए 15 से 18 साल के बच्चों में उत्साह, बोले- अब इन जगहों पर जाने को मिलेगा