'मध्य प्रदेश के लिए 8 खुशखबरी', ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर बताया

सरकार ने UDAN योजना के तहत 100 हवाई अड्डों के संचालन का लक्ष्य रखा है. सिंधिया से पहले उड्डयन मंत्रालय संभालने वाले हरदीप सिंह पुरी ने इस साल इसकी शुरुआत में कहा था. उन्होंने कहा था कि सरकार इस योजना के तहत कम से कम 1,000 हवाई मार्ग शुरू करने की भी योजना बना रही है, जो छोटे हवाई अड्डों को जोड़ने पर केंद्रित है.

'मध्य प्रदेश के लिए 8 खुशखबरी', ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर बताया

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शुक्रवार को 33वें नागरिक उड्डयन मंत्री का पदभार ग्रहण किया.

नई दिल्ली:

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया  (Jyotiraditya Scindia) ने आज (रविवार, 11 जुलाई) अपने गृह राज्य मध्य प्रदेश के लोगों के लिए एक "खुशखबरी" साझा की. उन्होंने कहा कि राज्य में 16 जुलाई से उड़ान योजना के तहत आठ नई उड़ानें शुरू होंगी, जो देश के बाकी हिस्सों के साथ छोटे हवाई अड्डों को जोड़ने पर केंद्रित है.

उन्होंने अपने ट्विटर पोस्ट में एयरलाइन को टैग करते हुए कहा कि नई उड़ानें स्पाइसजेट द्वारा संचालित की जाएंगी. मंत्री ने कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय और उड्डयन उद्योग UDAN योजना को और अधिक ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

ज्योतिरादित्य सिंधिया के मंत्री बनने पर कांग्रेस नेता ने मध्य प्रदेश के एक मंत्री को भेजा बरनॉल, जानें पूरा मामला

सरकार ने UDAN योजना के तहत 100 हवाई अड्डों के संचालन का लक्ष्य रखा है. सिंधिया से पहले उड्डयन मंत्रालय संभालने वाले हरदीप सिंह पुरी ने इस साल इसकी शुरुआत में कहा था. उन्होंने कहा था कि सरकार इस योजना के तहत कम से कम 1,000 हवाई मार्ग शुरू करने की भी योजना बना रही है, जो छोटे हवाई अड्डों को जोड़ने पर केंद्रित है.


कांग्रेस छोड़कर पिछले साल भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शुक्रवार को 33वें नागरिक उड्डयन मंत्री का पदभार ग्रहण किया. उन्होंने पुरी की उपस्थिति में कार्यभार संभाला.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ज्योतिरादित्य के पिता, माधव राव सिंधिया, 1990 के दशक की शुरुआत में प्रधान मंत्री पी वी नरसिम्हा राव की सरकार में नागरिक उड्डयन मंत्री थे. नए नागरिक उड्डयन मंत्री के रूप में सिंधिया भारी नुकसान के कारण राष्ट्रीय एयरलाइंस एयर इंडिया के विनिवेश को देखेंगे. उनसे महामारी के दौर में घाटे में चल रही विमानन कंपनियों को मजबूत करने और घाटे में चल रहे हवाई अड्डों के निजीकरण पर ठोस फैसला लेने की उम्मीद है.