देखें VIDEO : जब बैलगाड़ी पर अपनी पत्नी के साथ पहुंचे CJI, गांव वालों ने ऐसे किया उनका स्वागत

चीफ जस्टिस (Chief Justice of India) एन. वी. रमना (NV Ramana) शुक्रवार को CJI बनने के बाद पहली बार आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिला स्थित अपने पैतृक गांव पोन्नावरम (Ponnavaram)पहुंचे.

देखें VIDEO : जब बैलगाड़ी पर अपनी पत्नी के साथ पहुंचे CJI, गांव वालों ने ऐसे किया उनका स्वागत

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एन वी रमना बैलगाड़ी से पहुंचे अपने गांव

अमरावती:

चीफ जस्टिस (Chief Justice of India) एन. वी. रमना (NV Ramana) शुक्रवार को CJI बनने के बाद पहली बार आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिला स्थित अपने पैतृक गांव पोन्नावरम (Ponnavaram) पहुंचे. जहां ग्रामीणों ने उनका अभिनंदन किया. उन्होंने सजी हुई बैलगाड़ी पर सवार होकर पूरे गांव का भ्रमण किया. कार्यक्रम में शामिल हुए सभी लोगों का शुक्रिया अदा करते हुए न्यायमूर्ति रमना ने कहा कि हालांकि देश प्रगति कर रहा है, लेकिन कई समस्याएं अब भी बनी हुई हैं. उन्होंने लोगों को उन समस्याओं से लड़ने के लिए एकजुट होने की सलाह दी.

'मोबाइल से चिपके रहते हैं कुछ न्यायाधीश' : वकीलों ने CJI को चिट्ठी लिख की जिला जजों की शिकायत

न्यायमूर्ति रमना ने कहा कि वह तेलुगू, अपनी मातृभाषा से, अपने गांव-मातृभूमि के समान प्यार करते हैं. उन्होंने अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए कहा कि चूंकि उनके पिता कम्युनिस्ट पार्टी के समर्थक हुआ करते थे, इसलिए वह (न्यायमूर्ति रमण) स्वतंत्र पार्टी की विचारधरा को पसंद करते थे.

विवाद हल करने के लिए अदालतों में जाने का विकल्प अंतिम उपाय होना चाहिए : CJI एन वी रमण

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने सदा चाहा है कि सभी लोगों को जाति, नस्ल और धर्म से ऊपर उठ कर एक साथ रहना चाहिए.'' न्यायमूर्ति रमना राज्य की तीन दिनों की यात्रा पर हैं और इस दौरान वह कई कार्यक्रमों में शरीक होंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


महिलाओं को न्यायपालिका में मिले 50% प्रतिनिधित्व : CJI>



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)