उत्तराखंड आपदा के बाद बनी झील तक पहुंची ITBP-DRDO की टीम

ITBP और DRDO की एक संयुक्त टीम उत्तराखंड (Uttarakhand Flood) के चमोली जिले में ऊंचाई पर बनी कृत्रिम झील वाले स्थान तक बुधवार को पहुंच गई.

उत्तराखंड आपदा के बाद बनी झील तक पहुंची ITBP-DRDO की टीम

उत्तराखंड में 7 फरवरी को आपदा आई थी. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • 7 फरवरी को आई थी आपदा
  • मृतकों की संख्या हुई 58
  • 146 लोग अब भी लापता
चमोली:

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) और रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) की एक संयुक्त टीम उत्तराखंड (Uttarakhand Flood) के चमोली जिले में ऊंचाई पर बनी कृत्रिम झील वाले स्थान तक बुधवार को पहुंच गई. हाल में हिमखंड टूटने के कारण अचानक आई बाढ़ के बाद शायद यह झील बनी है. अधिकारियों ने बताया कि झील मुरेंडा में बनी है, जहां तक जाने के लिए रैनी गांव से करीब 5-6 घंटे लग जाते हैं. ITBP के प्रवक्ता विवेक कुमार पांडे ने बताया, ‘‘झील तक जाने वाले यह पहली टीम है. ITBP तथा DRDO के कर्मी हाल में अचानक आई बाढ़ के कारण बनी कृत्रिम झील से संभावित खतरे का आकलन करेंगे.''

इससे पहले हेलिकॉप्टर से झील का निरीक्षण किया गया था. उपग्रह की तस्वीरों का भी इस्तेमाल हुआ था. उन्होंने कहा कि आईटीबीपी के सहायक कमांडेंट शेर सिंह बुटोला के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम एक कैंप लगाएगी और झील के निकट हैलिपैड तैयार करेगी ताकि हेलिकॉप्टर से और विशेषज्ञों तथा अन्य सामानों को वहां पहुंचाया जा सके. इससे निचले क्षेत्र के गांवों और आधारभूत संरचना को खतरे के बारे में संभावित खतरे का विश्लेषण किया जाएगा. पांडे ने कहा कि इस टीम में जोशीमठ में स्थित ITBP की पहली बटालियन के कर्मी, औली स्थित पर्वतारोहरण संस्थान के पर्वतारोही और एक स्थानीय गाइड भी है. झील के पानी के बहाव का रास्ता भी बनाया जाएगा ताकि किसी तरह का खतरा ना हो.

उत्तराखंड आपदा का असर दिल्ली में! हो सकती है पानी की किल्लत


बल ने झील की कुछ तस्वीरें और वीडियो भी साझा किया है. अधिकारियों ने कहा कि यह झील 250 मीटर तक चौड़ी है जबकि इसकी गहराई के बारे में कुछ नहीं बताया. एक अधिकारी ने बताया, ‘‘सात फरवरी को हिमखंड टूटने के बाद अलकनंदा नदी में अचानक तेज प्रावह के कारण शायद यह झील बनी.'' उन्होंने कहा, ‘‘झील के बारे में अध्ययन करना जरूरी है ताकि किसी भी आपात स्थिति के लिए तैयार रहा जा सके और इसके टूटने की स्थिति में पहले ही चेतावनी जारी कर दी जाए.'' उत्तराखंड में 7 फरवरी को अचानक आई विकराल बाढ़ में मृतकों की संख्या 58 हो गई है जबकि 146 लोग लापता हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से बनी 'खतरनाक झील', सैटेलाइट तस्वीरें हैरान कर देंगी



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)