दिल्ली : CCTV में दिखे इजरायली दूतावास ब्लास्ट के संदिग्ध, पहचान छिपाने के लिए उतार दी थी जैकेट

इसी साल 29 जनवरी को इजरायली दूतावास (Israel Embassy Blast) के पास हुए ब्लास्ट के दो संदिग्धों की तस्वीरें सामने आई हैं.

दिल्ली : CCTV में दिखे इजरायली दूतावास ब्लास्ट के संदिग्ध, पहचान छिपाने के लिए उतार दी थी जैकेट

इस तस्वीर में दोनों संदिग्ध नजर आ रहे हैं.

खास बातें

  • इजरायली दूतावास ब्लास्ट के संदिग्ध
  • तस्वीरों में दिख रहे हैं दोनों संदिग्ध
  • पहचान छिपाने को उतार दी थी जैकेट
नई दिल्ली:

इसी साल 29 जनवरी को इजरायली दूतावास (Israel Embassy Blast) के पास हुए ब्लास्ट के दो संदिग्धों की तस्वीरें सामने आई हैं. तस्वीरों में दोनों संदिग्ध साफ नजर आ रहे हैं. इनका सीसीटीवी फुटेज भी है, जिसमें उन्होंने चेहरे पर मास्क लगाया हुआ है और जैकेट पहनी हुई है. एक शख्स ने हाथ में एक फाइल और दूसरे ने एक बैग लिया हुआ है. इन लोगों ने जामिया नगर से ऑटो किया था, फिर अब्दुल कलाम रोड पहुंचे. विस्फोटक रखने के बाद ये ऑटो से अकबर रोड पहुंचे और वहां दोनों ने पहचान छिपाने के लिए जैकेट उतार दी.

बता दें कि इस ब्लास्ट मामले की जांच पहले स्पेशल सेल कर रही थी, जिसके बाद केस  NIA को ट्रांसफर कर दिया गया था. ब्लास्ट से जुड़ी रोहिणी FSL ने अपनी रिपोर्ट भी NIA को सौंप दी है. इसमें बताया गया है कि यह ब्लास्ट लो इंटेंसिटी का धमाका था. फिलहाल NIA इस मामले की जांच कर रही है. अभी तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.

इजरायली दूतावास के पास धमाके में पुलिस के हाथ अहम सुराग, बनवा रही 2 संदिग्ध के स्केच : 10 बातें

गौरतलब है कि इजरायल दूतावास के पास यह धमाका उस समय हुआ था, जब वहां से कुछ किलोमीटर की दूरी पर गणतंत्र दिवस समारोहों के समापन के तौर पर होने वाला 'बीटिंग रीट्रिट' कार्यक्रम चल रहा था. इसमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप-राष्ट्रपति एम वैकेंया नायडू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूद थे.


प्रारंभिक जांच में जानकारी मिली थी कि इजरायली दूतावास के पास जहां ब्लास्ट हुआ था, वहां गड्ढा हो गया था. पुलिस ने मौके से बॉल बेयरिंग और IED के अवशेष बरामद किए थे. इसे प्लास्टिक बैग में बांधकर लाया गया था और एक बिल्डिंग के पास फुटपाथ पर एक पेड़ के नीचे रख दिया गया था. यह बिल्डिंग दूतावास से कुछ मीटर की दूरी पर है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: पक्ष-विपक्ष : वाट्सएप के जरिए किसने और क्यों की जासूसी?