गुजरात: वडोदरा के अस्पताल में पाइप पंक्चर होने से ऑक्सीजन लीक, सभी मरीज सुरक्षित

इससे पहले 21 अप्रैल को महाराष्ट्र के नासिक में नगर निगम के एक अस्पताल में कोविड-19 के 22 मरीजों की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गई थी जब अचानक ऑक्सीजन के मुख्य भंडार में रिसाव हो गया था.

गुजरात: वडोदरा के अस्पताल में पाइप पंक्चर होने से ऑक्सीजन लीक, सभी मरीज सुरक्षित

आपूर्ति बाधित नहीं हुई क्योंकि रिसाव 20 मिनट में दूर कर लिया गया : डॉक्टर (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अहमदाबाद:

गुजरात के वडोदरा में एसएसजी अस्पताल में सोमवार सुबह चिकित्सीय ऑक्सीजन का “मामूली” रिसाव (Oxygen Leakage) हो गया. एक अधिकारी ने बताया कि कोविड-19 मरीजों के लिए जीवनरक्षक गैस वाहक वाली एक पाइप के पंक्चर हो जाने के कारण यह रिसाव हुआ. अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ रंजन अय्यर ने बताया कि इस सरकारी अस्पताल में कोविड-19 के करीब 600 मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे, लेकिन आपूर्ति बाधित नहीं हुई क्योंकि रिसाव 20 मिनट में दूर कर लिया गया था. 

यह रिसाव सर सयाजीराव जनरल (एसएसजी) अस्पताल के ‘न्यू सर्जिकल ब्लॉक' में हुआ था जब मुख्य टैंक से विभिन्न वार्डों में ऑक्सीजन ले जाने वाली तांबे की तार क्षतिग्रस्त हो गई थी 

डॉ अय्यर ने कहा, “यह मामूली रिसाव था क्योंकि ताबें की तार एक जगह से पंक्चर हो गई थी. हमारे स्टाफ ने 20 मिनट के भीतर इस समस्या को दूर कर लिया था.”अधिकारी ने कहा कि अस्पताल में कोविड-19 के कुल 766 मरीज हैं जिसमें से 600 ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं. उन्होंने कहा, “रिसाव से हमारे मरीजों की ऑक्सीजन आपूर्ति पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा. उन्हें तो पता भी नहीं चला कि ऐसा कुछ हुआ है.”


इससे पहले 21 अप्रैल को महाराष्ट्र के नासिक में नगर निगम के एक अस्पताल में कोविड-19 के 22 मरीजों की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो गई थी जब अचानक ऑक्सीजन के मुख्य भंडार में रिसाव हो गया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)