Gold Bond Scheme : गोल्ड बॉन्ड में करना हो निवेश तो जानें, आज से सब्सक्रिप्शन शुरू, देखें डिटेल्स

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम आज से शुरू हो रही है. स्कीम की पहली किस्त 17 मई से लेकर अगले पांच दिनों तक यानी 21 मई तक खुली रहेगी. स्कीम में प्रति ग्राम सोने के बॉन्ड का इशू प्राइस 4,777 रुपए तय किया गया है.

Gold Bond Scheme : गोल्ड बॉन्ड में करना हो निवेश तो जानें, आज से सब्सक्रिप्शन शुरू, देखें डिटेल्स

Gold Bond Scheme : सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की पहली किस्त का सब्सक्रिप्शन आज से शुरू.

नई दिल्ली:

वित्त वर्ष 2021-22 की पहली सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम (Sovereign Gold Bond Scheme) आज यानी सोमवार से शुरू हो रही है. स्कीम की पहली किस्त 17 मई से लेकर अगले पांच दिनों तक यानी 21 मई तक खुली रहेगी. इस साल यह स्कीम सितंबर, 2021 तक कुल छह किस्तों में खुलेगी. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बताया है कि इस स्कीम में प्रति ग्राम सोने के बॉन्ड का इशू प्राइस 4,777 रुपए तय किया गया है, यानी 10 ग्राम की कीमत 47,770 रुपए होगी.

इशू प्राइस

इस स्कीम में सोने के बॉन्ड का दाम इंडिया बुलियन एण्ड ज्वैलर्स एसोसिएशन लिमिटेड की ओर से जारी दाम के सामान्य औसत भाव पर होगा. यह दाम निवेश की अवधि से पहले के सप्ताह के अंतिम तीन कारोबारी दिवस के दौरान 999 शुद्धता वाले सोने का औसत भाव होगा.

डिस्काउंट मिलेगा

बॉन्ड खरीदने के लिये ऑनलाइन या डिजिटल माध्यम से भुगतान करने वालों को बॉन्ड के दाम में 50 रुपए प्रति ग्राम की छूट मिलेगी. ऐसे निवेशकों के लिए बॉन्ड की कीमत 4,727 रुपए प्रति ग्राम होगी.

कहां से खरीद सकते हैं

आप बांड स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, नामित डाकघरों और मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड से खरीद सकते हैं. लघु वित्त बैंक और भुगतान बैंकों को बॉन्ड बेचने की अनुमति नहीं होगी. भारत सरकार की ओर से ये बॉन्ड रिजर्व बैंक जारी करेगा.

कितना निवेश कर सकते हैं

यह बॉन्ड न्यूनतम 1 ग्राम से शुरू होगा. अधिकतम सीमा देखें तो कोई भी व्यक्ति और हिंदू अविभाजित परिवार अधिकतम चार किलोग्राम मूल्य तक का बॉन्ड खरीद सकता है जबकि ट्रस्ट और समान संस्थाओं के लिए खरीद की अधिकतम सीमा 20 किग्रा है.


क्या होगी अवधि

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बॉन्ड की अवधि आठ वर्षों की होगी जिसमें पांच साल बाद अगले ब्याज भुगतान की तिथि पर बॉन्ड से हटने का भी विकल्प होगा. स्वर्ण बॉड में निवेश एक ग्राम के मूल यूनिट के अनुरूप किया जा सकेगा. कम से कम एक ग्राम सोने के लिये निवेश करना होगा.