यूपी विधान परिषद चुनाव: स्‍वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने वाले नौकरशाह एके शर्मा को BJP ने बनाया प्रत्‍याशी

अरविंद कुमार शर्मा वर्ष 2001 से 2020 के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी सहयोगी अधिकारी के तौर पर काम कर चुके हैं. वह गुजरात के मुख्यमंत्री कार्यालय तथा उसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय में भी कार्यरत रहे हैं.

यूपी विधान परिषद चुनाव: स्‍वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने वाले नौकरशाह एके शर्मा को BJP ने बनाया प्रत्‍याशी

अरविंद शर्मा गुरुवार को ही बीजेपी में शामिल हुए हैं

खास बातें

  • पीएम मोदी के बेहद करीबी माने जाते हैं पूर्व IAS शर्मा
  • गुरुवार को ही बीजेपी में शामिल हुए हैं एके शर्मा
  • दिनेश शर्मा, स्‍वतंत्र देव, लक्ष्‍मण आचार्य को फिर प्रत्‍याशी बनाया
नई दिल्‍ली :

भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने उत्तर प्रदेश की 12 विधान परिषद सीटों के लिए होने वाले द्विवार्षिक चुनाव के मद्देनजर शुक्रवार को प्रशासनिक सेवा से स्वैच्छिक सेवानिवृति लेने वाले गुजरात काडर के पूर्व आईएएस अधिकारी अरविंद कुमार शर्मा (Arvina kumar sharma) को अपना उम्मीदवार बनाया है.उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के रहने वाले शर्मा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का करीबी माना जाता है. वह गुरुवार को ही बीजेपी में शामिल हुए थे. बीजेपी की केंद्रीय चुनाव समिति ने आज शर्मा के नाम को हरी झंडी दी. 

मायावती का ऐलान- 'UP-उत्तराखंड' में अकेले विधानसभा चुनाव लड़ेगी BSP, मुफ्त कोरोना वैक्सीन का वादा

भाजपा महासचिव अरुण सिंह की ओर से जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक पार्टी ने उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और वरिष्ठ नेता लक्ष्मण प्रसाद आचार्य को फिर से अपना उम्मीदवार बनाया है. राज्य की 12 विधान परिषद सीटों के लिए 28 जनवरी को मतदान होना है और नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तारीख 18 जनवरी है.जिन 12 सीटों पर चुनाव होने हैं उसके मौजूदा सदस्‍यों का कार्यकाल 30 जनवरी को पूरा हो रहा है. सेवानिवृत्त होने जा रहे विधान परिषद सदस्यों में स्वतंत्र देव सिंह, दिनेश शर्मा और लक्ष्मण आचार्य के अलावा विधान परिषद के सभापति रमेश यादव (समाजवादी पार्टी) प्रमुख हैं.

"सशक्त, साहसी और संकल्पबद्ध" : सेना दिवस पर PM मोदी ने जवानों की वीरता को किया सलाम

गौरतलब है कि अरविंद कुमार शर्मा वर्ष 2001 से 2020 के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी सहयोगी अधिकारी के तौर पर काम कर चुके हैं. वह गुजरात के मुख्यमंत्री कार्यालय तथा उसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय में भी कार्यरत रहे हैं. उन्होंने समय से दो साल पहले ही स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली है. सूत्रों के मुताबिक विधान परिषद के रूप में उनके चुनाव के बाद शर्मा को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार में अहम जिम्मेदारी दी जा सकती है.

100-सदस्यीय उत्तर प्रदेश विधान परिषद में सपा के 55, भाजपा के 25, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के आठ, कांग्रेस और ‘‘निर्दलीय समूह'' के दो-दो और अपना दल (सोनेलाल) और ‘‘शिक्षक दल'' के एक-एक सदस्य हैं. इनके अलावा विधान परिषद में तीन निर्दलीय सदस्य भी हैं.गौरतलब है कि उत्‍तर प्रदेश की 403 सदस्‍यों वाली विधानसभा में वर्तमान में 402 सदस्‍य हैं जिनमें भाजपा के 310, सपा के 49, बसपा के 18, अपना दल (सोनेलाल) के नौ, कांग्रेस के सात, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के चार, निर्दलीय तीन, राष्‍ट्रीय लोकदल का एक, निर्बल इंडियन शोषित हमारा अपना दल (निषाद) का एक सदस्‍य हैं. भाजपा के साथ अपना दल (सोनेलाल) का गठबंधन है.


मिशन बंगाल पर बीजेपी अध्यक्ष नड्डा, रैली में ममता बनर्जी पर जमकर साधा निशाना

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)