EXCLUSIVE : लखीमपुर हिंसा में जख्मी किसान नेता ने बताया कैसे पीछे से उन पर चढ़ाई गई गाड़ियां

लखीमपुर में किसानों के प्रदर्शन को बुलाने वाले किसान नेता तजिंदर विर्क ने एनडीटीवी से बात करते हुए कहा कि ये हमें मारने की साजिश रची गई थी.

नई दिल्ली :

लखीमपुर हिंसा को लेकर सरकार ने किसानों की सारी शर्तें मान ली हैं, लेकिन गुनहगारों की अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई है. किसानों ने भी सोमवार को सरकार के साथ सुलह के बाद अपना आंदोलन खत्म कर दिया था, लेकिन सवाल ये है कि एफआईआर दर्ज होने के बाद भी आरोपी आजाद कैसे घूम रहे हैं. इस हादसे में चार किसानों को गाड़ी से कुचल मार डाला गया, जबकि कई जख्मी हो गए. हादसे में जख्मी किसान नेता तजिंदर विर्क गंभीर हालत में मेदांता अस्पताल में भर्ती है. जहां उनका इलाज चल रहा है. 

लखीमपुर में किसानों के प्रदर्शन को बुलाने वाले किसान नेता तजिंदर विर्क ने एनडीटीवी से बात करते हुए कहा कि ये हमें मारने की साजिश रची गई थी. विर्क ने हादसे का आँखों देखा हाल बताते हुए कहा कि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा ने बयान दिया था कि वो किसानों को लखीमपुर में क्या यूपी में नहीं रहने देंगे. अजय मिश्रा के इसी बयान के खिलाफ हम प्रदर्शन कर रहे थे. इस दौरान हम लगातार एसपी और डीएम के संपर्क में थे. 

विर्क ने बताया कि वहां यूपी के डिप्टी सीएम केशव मौर्य आ रहे थे तो हम लोग रास्ते में काले झंडे दिखाने के लिए खड़े थे. फिर 3 बजे के करीब हमें बताया गया कि रूट बदल दिया गया है. हम लोग शांतिपूर्ण तरीके से वापस जाने लगे. अचानक से पीछे से बहुत तेज रफ्तर में गाड़ियों आईं और हमें पीछे से टक्कर मारी. वापस जा रहे किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी गई और उस गाड़ी में अजय मिश्रा का बेटा और उसके लोग सवार थे. उसके बाद मुझे कुछ होश नहीं था.

साथ ही उन्होंने बताया कि गाड़ी की रफ़्तार 100 किलोमीटर प्रति घंटा से ज्यादा थी. हमें जानबूझकर कर पीछे से टक्कर मारी गई. हमारा पूरा आंदोलन शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा था. हमारी तरफ से पहले कोई लाठी या पत्थर नहीं चलाया गयाा था. आक्रोशित भीड़ ने बाद में उन पर हमला कर दिया. हमारे ही लोगों ने कुछ लोगों को बचाया और पुलिस के हवाले किया. पुलिसवाले वहां मौजूद थे. मैं इमानदारी से गवाही देने को तैयार हैं.

किसान नेता ने कहा कि 72 घंटे हो गए हैं लेकिन अभी तक अजय मिश्रा की गिरफ्तारी नहीं हुई है. अजय मिश्रा को मंत्री पद से हटाया जाए. मैं सभी किसानों से अपील करता हूं कि शांति बनाए रखें. योगी सरकार की पुलिस ही हमलावरों की मदद कर रही है. बिना किसी हिंसा के हम लोग शांतिपूर्ण आंदोलन जारी रखेंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


'सांसद के बेटे को भागते देखा', लखीमपुर खीरी कांड में घायल किसान की जुबानी पूरी कहानी