जेएनयू पहुंचीं दीपिका पादुकोण, हिंसा के खिलाफ हुए प्रदर्शन में शामिल होकर छात्रों के साथ दिखाई एकजुटता

दीपिका पादुकोण के करीबियों से मिली जानकारी के अनुसार दीपिका शाम साढ़े सात बजे कैंपस पहुंची थी. वह प्रदर्शन में शामिल हुई और वहां से वापस आने से पहले उन्होंने कुछ वाम छात्र संगठनों के सदस्यों से बात भी की. 

जेएनयू पहुंचीं दीपिका पादुकोण, हिंसा के खिलाफ हुए प्रदर्शन में शामिल होकर छात्रों के साथ दिखाई एकजुटता

जेएनयू कैंपस पहुंची दीपिका पादुकोण

नई दिल्ली:

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में रविवार को हुई हिंसा के खिलाफ वाम छात्रों ने आज कैंपस में प्रदर्शन बुलाया. इस दौरान छात्रों ने कैंपस में हुई हिंसा की कड़े शब्दों में निंदा की. इस प्रदर्शन में बॉलीवुड अभिनेत्रा दीपिका पादुकोण भी शामिल हुईं. वह घायल छात्रोें के साथ प्रदर्शन स्थल पर खड़ी दिखीं. हालांकि उन्होंने इस दौरान कोई संबोधन नहीं दिया. इस मौके पर सीपीआई नेता कन्हैया कुमार भी कैंपस में मौजूद थे. दीपिका पादुकोण के करीबियों से मिली जानकारी के अनुसार दीपिका शाम साढ़े सात बजे कैंपस पहुंचीं थी. वह प्रदर्शन में शामिल हुईं और वहां से वापस आने से पहले उन्होंने कुछ वाम छात्र संगठनों के सदस्यों से बात भी की. 

जब JNU छात्रों के विरोध के कारण इंदिरा गांधी को देना पड़ा था चांसलर पद से इस्तीफा

बता दें कि इस हिंसा को लेकर जेएनयू के वाइस चांसलर जगदेश कुमार पहली बार सामने आए हैं. उन्होंने कहा है कि घायल छात्रों से हमारी पूरी हमदर्दी, हम नई शुरुआत करें. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अब सर्वर काम कर रहे हैं, रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुके हैं. वीसी ने कहा, 'हम उम्मीद करते हैं कि जितने भी छात्र हिंसा में जख्मी हुई हैं. वे जल्द स्वस्थ होंगे और सामान्य जिंदगी जिएंगे. जो भी हुआ वह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण था. हमारा कैम्पस हर मुद्दों पर चर्चा और बहस के लिए जाना चाता है. हिंसा कोई समाधान नहीं है. हम लोग हर एक विकल्प देख रहे हैं, जिससे कैम्पस में स्थिति सामान्य हो.'

योगेंद्र यादव ने JNU के VC को लेकर किया ट्वीट, कहा- उनका कोई बौद्धिक स्तर नहीं, वह संस्था के दुश्मन, उन्हें जाना होगा!

वहीं, दिल्ली पुलिस ने रविवार शाम जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में हुई हिंसा से एक दिन पहले यूनिवर्सिटी के सर्वर रूम में कथित रूप में तोड़फोड़ करने के मामले में जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष आयशी घोष और 19 अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. 1 जनवरी के मामले में भी एक एफआईआर दर्ज की गई है. दोनों मामलों में ही आयशी घोष के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. ये दोनों एफआईआर जेएनयू प्रशासन की तरफ से दर्ज कराई गई थी. जेएनयू में हुई हिंसा में कुछ छात्रों और शिक्षकों समेत 34 लोग जख्मी हुए हैं. इस हिंसा में आयशी घोष को सिर में चोट आई थी.

JNU हिंसा: छात्रों पर हमले की इस समूह ने ली जिम्मेदारी, पुलिस कर रही है दावे की जांच- सरकारी सूत्र


दक्षिण पश्चिम दिल्ली के डीसीपी देवेंद्र आर्या ने एनडीटीवी से बात करते हुए कहा कि 'हमें पहली शिकायत 3 जनवरी को और दूसरी 4 जनवरी को मिली. शिकायतों को जांचा गया. उसके बाद हमने 5 तारीख को एक साथ केस दर्ज किए. जेएनयू की तरफ से जो शिकायत दी गयी थी और शिकायत में जो नाम दिए गए थे उनके खिलाफ ही केस दर्ज हुए हैं. कोई पक्षपातपूर्ण कार्रवाई नहीं हुई है.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com