स्ट्रेचर पर पड़ी बीमार मां को मुंह से सांस देने लगी बेटियां, फिर भी नहीं बच सकी की जान, Video Viral

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के तुरंत बाद जिलाधिकारी शंभू कुमार व मेडिकल कॉलेज के वरिष्ठ अधिकारियों व चिकित्सकों ने आपातकालीन सेवा में पहुंचकर उक्त घटना की जांच की.

स्ट्रेचर पर पड़ी बीमार मां को मुंह से सांस देने लगी बेटियां, फिर भी नहीं बच सकी की जान, Video Viral

प्रतीकात्मक तस्वीर.

बहराइच:

कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले में सोशल मीडिया पर एक मार्मिक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें मेडिकल कॉलेज के अंतर्गत आने वाले जिला अस्पताल के स्ट्रेचर पर पड़ी एक बीमार महिला को उसकी दो बेटियां मुंह से सांस देकर जान बचाने का प्रयास कर रही हैं. हालांकि महिला की जान बच न सकी. वीडियो में ऑक्सीजन की कमी व स्टाफ के न होने की आवाजें सुनाई दे रही हैं. इस संबंध में रविवार को महाराजा सुहेलदेव मेडिकल कॉलेज, बहराइच के प्रधानाचार्य डॉ. एके साहनी ने ''पीटीआई-भाषा'' को बताया कि सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के तुरंत बाद जिलाधिकारी शंभू कुमार व मेडिकल कॉलेज के वरिष्ठ अधिकारियों व चिकित्सकों ने आपातकालीन सेवा में पहुंचकर उक्त घटना की जांच की.

यूपी में 290 कोरोना संक्रमण ग्रस्त मरीजों की मौत, करीब 31 हजार नए मामले मिले

उन्होंने बताया कि जांच में मिले तथ्यों के मुताबिक, उक्त महिला मरीज को जब अस्पताल की आपातकालीन सेवा में परिजनों द्वारा लाया गया, उस समय महिला मरीज लगभग मरणासन्न स्थिति में थी और जब तक डॉक्टर मरीज का इलाज शुरू करते तब तक महिला की मृत्यु हो चुकी थी. प्रधानाचार्य ने बताया कि महिला की बच्चियां भावुक होकर अपनी मां को मुंह से सांस देने लगी थीं.

साहनी ने दावा किया कि मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है. इस संबंध में आपातकालीन सेवा के चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर एहतिशाम अली ने बताया कि उक्त महिला मरीज को जब अस्पताल लाया गया तब उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी. उन्होंने बताया,“ आपातकालीन सेवा में तैनात डॉ. शहीर द्वारा अटेंड करते-करते ही महिला की मौत हो चुकी थी और चिकित्सक कुछ नहीं कर सके.”

UP Panchayat Election Results: उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के विभिन्न पदों लिए 1,64,680 उम्मीदवार निर्वाचित

डॉक्टर अली ने कहा कि ऐसे मरीजों को अस्पताल में लाने से पहले ही मौत हो जाने की श्रेणी में मान कर उनकी रजिस्टर पर एंट्री नहीं की जाती है, “इसलिए उक्त महिला का नाम पता भी हमें नहीं मालूम है.”


यूपी में न ऑक्सीजन, न बेड और न ही दवा, हालात खराब

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)