कोरोना संकट राजनीति का कारण नहीं बनना चाहिए, राज्यसभा में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा

राज्यसभा में कोरोना महामारी पर चर्चा के दौरान बोलते हुए स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि कोरोना संकट को राजनीति का कारण नहीं बनाया जाना चाहिए.

कोरोना संकट राजनीति का कारण नहीं बनना चाहिए, राज्यसभा में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा

नई दिल्ली:

राज्यसभा में कोरोना महामारी पर चर्चा के दौरान बोलते हुए स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि कोरोना संकट को राजनीति का कारण नहीं बनाया जाना चाहिए. उन्होंने कहा, 'हमें लोगों और राज्य सरकारों को साथ लेकर यह सुनिश्चित करना होगा कि कोरोनावायरस की तीसरी लहर ना आए. कई राज्यों के पास 10 लाख वैक्सीन डोज पड़ा है. कई राज्यों के पास 15 लाख वैक्सीन डोज पड़ा है. लेकिन यहां एक नेता ने कहा कि वैक्सीनेशन तेज करो. हम इस पर राजनीति नहीं करना चाहते. कुछ राज्यों ने सोचा होगा की वैक्सीन का स्टॉक रखकर टीकाकरण आगे बढ़ाया जाए. हमें इस पर कोई आपत्ति नहीं है. 

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, 'मोदी जी ने कहा कि मौतों को रजिस्टर कीजिए, छुपाइए मत. राज्य सरकारों को ही मौतों को रजिस्टर करना होता है. यहां कहा गया कि भारत सरकार आंकड़े छुपा रही है. ये गलत है.'

उन्होंने कहा, 'अप्रैल 2020 में ही वैज्ञानिकों ने वैक्सीन पर काम शुरू कर दिया था. सरकार ने फंड और सपोर्ट दिया. मोदी जी ने वैक्सीन निर्माताओं से खुद बात की. दुनिया की वैक्सीन महंगी है, हमारी सस्ती है. 11 से 12 करोड़ वैक्सीन मिलना शुरू हो गया है.

जायडस-कैडिला और भारत बायोटेक ने बच्चों पर ट्रायल शुरू की है. अनौपचारिक रूप से जो जानकारी मिल रही है उसके मुताबिक ट्रायल सफलतापूर्वक चल रहा है.'

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, 'पिछले 1 हफ्ते से हर दिन करीब 50 लाख लोगों का टीकाकरण हो रहा है. जैसे-जैसे डोज उपलब्ध होंगे वैक्सीनेशन प्रोग्राम आगे बढ़ता रहेगा.


पहली लहर के दौरान सीरो सर्वे में 3.28 फीसदी बच्चों में एंटी बॉडी मिली. दूसरी लहर में बच्चों में ये आंकड़ा 3.5 फीसदी रहा. तीसरी लहर में बच्चों पर ज्यादा असर पड़ेगा, ऐसा सोचना सही नहीं होगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


1573 ऑक्सीजन प्लांट लगाने की हमने योजना बनाई, उनमें से 316 प्लांट कमिशन हो गए हैं. अगस्त के आख‍िर में सारे नए ऑक्सीजन प्लांट लगा देंगे. उसके लिए हमने डिजिटल प्लैटफॉर्म तैयार किया है. हमने भविष्य में किसी भी चुनौती से निपटने के लिए और स्वास्थ्य सेवाओं को और मजबूत करने के लिए 23000 करोड़ का इमरजेंसी कोविड-19 पैकेज तैयार किया है.