कोरोना: पूर्व सैनिकों और उनके परिवारों को तुरंत मिलेगी मेडिकल सहायता, रक्षा मंत्री ने उठाया ये कदम

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भूतपूर्व सैनिकों और उनके आश्रितों के लिए 51 पूर्व सैनिक अंशदायी स्वास्थ्य योजना (ईसीएचएस) पॉलीक्लिनिक में अस्थाई कर्मचारियों की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है.

कोरोना: पूर्व सैनिकों और उनके परिवारों को तुरंत मिलेगी मेडिकल सहायता, रक्षा मंत्री ने उठाया ये कदम

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भूतपूर्व सैनिकों के लिए ईसीएचएस पॉलीक्लिनिक में अस्थाई कर्मचारियों की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है.

नई दिल्ली:

देशभर में कोरोना के चलते हालात गंभीर बने हुए है. कोरोना की बिगड़ती स्थिति और कोविड-19 के तेज़ी से बढ़ते मामलों को देखते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भूतपूर्व सैनिकों और उनके आश्रितों के लिए 51 पूर्व सैनिक अंशदायी स्वास्थ्य योजना (ईसीएचएस) पॉलीक्लिनिक में अस्थाई कर्मचारियों की नियुक्ति को मंजूरी दे दी है. चिन्हित किए गए ईसीएचएस पॉलीक्लिनिकों में मेडिकल ऑफिसर, नर्सिंग असिस्टेंट, फार्मासिस्ट, ड्राइवर और चौकीदारों सहित अन्य कर्मचारियों को स्टेशन मुख्यालय के माध्यम से 3 महीने के लिए रात्रि ड्यूटी और सामान्य कामकाज के बाद की ड्यूटी के लिए अस्थायी रूप से नियुक्त किया जाएगा. 


इन पॉलीक्लिनिकों में कर्मचारियों को बढ़ाया जाएगा
अत्यधिक भीड़-भाड़ वाले ईसीएचएस पॉलीक्लिनिक जैसे- लखनऊ, दिल्ली छावनी (बीएचडीसी), बेंगलुरु (शहर), देहरादून, कोटपुतली, अमृतसर, मेरठ, चंडीगढ़, जम्मू, नई दिल्ली (लोधी रोड), सिकंदराबाद, आगरा, अंबाला, ग्रेटर नोएडा, गुरदासपुर, पुणे, त्रिवेंद्रम, जालंधर, कानपुर, गुड़गांव, गुड़गांव (सोहना रोड), होशियारपुर, मोहाली, चंडीमंदिर, इलाहाबाद, गाजियाबाद (हिंडन), पठानकोट, जोधपुर, लुधियाना, रोपड़, तरनतारन/पट्टी, कोलकाता, दानापुर (पटना), खड़की (पुणे), पालमपुर बरेली, कोल्हापुर, वाईओयू, दक्षिणी पुणे (लोहेगांव), विशाखापत्तनम,, जयपुर, गुंटूर, बैरकपुर, चेन्नई, गोरखपुर, पटियाला, नोएडा, भोपाल, कोशी, वेल्लोर और रांची में कर्मचारियों को बढ़ाया जाएगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


रक्षा मंत्री के इस प्रयास से भूतपूर्व सैनिकों और उनके आश्रितों को इन क्षेत्रों में गंभीर मामलों में मुश्किल समय के दौरान शीघ्र चिकित्सकीय सहायता की उपलब्धता सुनिश्चित होगी. हालांकि, इसको दी गई मंजूरी की वैधता 15 अगस्त 2021 तक है.