महाराष्ट्र में बढ़ रहे कोरोना के मामले, हेल्थ एक्सपर्ट्स ने लोगों को ठहराया इसका जिम्मेदार

महाराष्ट्र में COVID-19 (Maharashtra Coronavirus Cases) संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच स्वास्थ्य विशेषज्ञों एवं सरकारी अधिकारियों ने इसके लिए उन लोगों को जिम्मेदार बताया है, जो न तो मास्क पहनते हैं और न ही सामाजिक दूरी से मेलजोल के नियमों का पालन करते हैं.

महाराष्ट्र में बढ़ रहे कोरोना के मामले, हेल्थ एक्सपर्ट्स ने लोगों को ठहराया इसका जिम्मेदार

महाराष्ट्र में कोविड-19 से अब तक 51,753 लोगों की मौत हुई है. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • महाराष्ट्र में तेजी से बढ़ रहे कोरोना केस
  • अब तक 51,753 मरीजों की मौत
  • हेल्थ एक्सपर्ट्स ने लोगों को बताया जिम्मेदार
मुंबई:

महाराष्ट्र में कोरोनावायरस (Coronavirus in Maharashtra) संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच स्वास्थ्य विशेषज्ञों एवं सरकारी अधिकारियों ने इसके लिए उन लोगों को जिम्मेदार बताया है, जो न तो मास्क पहनते हैं और न ही सामाजिक दूरी से मेलजोल के नियमों का पालन करते हैं. प्रदेश के ग्रामीण इलाकों एवं मुंबई के गैर झुग्गी इलाकों में COVID-19 के बढ़ते मामलों के बीच ताजा लॉकडाउन (Lockdown) लागू करने की चर्चा शुरू हो चुकी है. इससे कुछ ही दिन पहले सार्वजनिक परिवहन प्रणाली, शैक्षिक संस्थान एवं धार्मिक स्थान खुले थे.

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के मामले शनिवार को लगातार पांचवे दिन बढ़े हैं. प्रदेश में शनिवार को 6281 नए मामले सामने आए, जो पिछले 85 दिन में सबसे अधिक हैं. इसके बाद प्रदेश में संक्रमित मामलों की कुल संख्या बढ़कर 20,93,913 हो गई है. महाराष्ट्र में मरने वालों की कुल संख्या अब 51,753 पर पहुंच गई है. प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण के कारण मृत्यु दर 2.47 प्रतिशत है, जो राष्ट्रीय आंकड़े 1.42 फीसदी से कहीं अधिक है. पिछले साल अप्रैल में गठित कोरोनावायरस कार्यबल के प्रमुख डॉक्टर संजय ओक कहते हैं कि प्रदेश में बढ़ते आंकड़ों को महामारी का ‘‘दूसरा दौर'' नहीं कहा जा सकता है.

टीकाकरण अभियान में प्राइवेट सेक्टर को मिलेगी भूमिका, उद्योग जगत की अपील के बाद सरकार का फैसला

उन्होंने कहा, ‘‘लोग कोविड के तौर तरीकों का पालन नहीं करते हैं. उन्हें इससे बचने की जरूरत है.'' महाराष्ट्र सरकार के प्रधान सचिव (स्वास्थ्य) प्रदीप व्यास ने इस बढ़ोतरी के लिए लोगों की लापरवाही एवं अनुशासनहीनता को जिम्मेदार बताया है. उन्होंने कहा, ‘‘प्रोटोकॉल का पालन करने में कमी है. लोग कोविड के उचित तौर तरीकों का पालन नहीं करते हैं.'' व्यास ने कहा, ‘‘अधिकारियों को यह कहना होगा कि कोरोनावायरस अभी आसपास ही है. लोगों को इसे लेकर लापहरवाह होने की जरूरत नहीं है.''

UNSC की बैठक में कोरोना पर बोला भारत- टीका राष्ट्रवाद बंद कर, अंतरराष्ट्रीयवाद को बढ़ावा दें


बताते चलें कि महाराष्ट्र में शुक्रवार को 6112 नए मामले सामने आए, जो पिछले 84 दिन में सबसे अधिक थे. इसके बाद प्रदेश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 20,87,632 हो गई थी. पिछली बार महाराष्ट्र में 6,112 से अधिक मामले पिछले साल 27 नवंबर को सामने आए थे और उस वक्त यह आंकड़ा 6,185 था. बीएमसी के एक अधिकारी ने बताया कि दैनिक मामलों में दैनिक बढोतरी के बाद मुंबई में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3.17 लाख हो गई है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: क्या बच्चों को कोरोना की वही वैक्सीन दी जाएगी, जो वयस्कों को दी जा रही है?



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)