पी चिदंबरम का दावा- कम दिखे कोरोना के मामले, इसलिए केंद्र सरकार ने घटाई टेस्टिंग

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने दावा किया कि देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) की जांच की संख्या घटा दी गई, जिस कारण संक्रमण के मामलों में गिरावट नजर आ रही है.

पी चिदंबरम का दावा- कम दिखे कोरोना के मामले, इसलिए केंद्र सरकार ने घटाई टेस्टिंग

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • क्या सरकार ने कम कर दी कोरोना की जांच?
  • कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने किया यह दावा
  • कोरोना जांच को लेकर साधा सरकार पर निशाना
नई दिल्ली:

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने बुधवार को दावा किया कि देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) की जांच की संख्या घटा दी गई, जिस कारण संक्रमण के मामलों में गिरावट नजर आ रही है. उन्होंने यह भी कहा कि लोगों को बेवकूफ बनाने की बजाय सरकार को रोजाना कोविड की जांच की संख्या बढ़ानी चाहिए. पूर्व वित्त मंत्री ने ट्विटर पर एक चार्ट भी शेयर किया, जिसमें दर्शाया गया कि कुछ दिनों पहले तक 18-19 लाख जांच हो रही थी, लेकिन पिछले दो-तीन दिनों से जांच की संख्या 15 लाख के आसपास कर दी गई है.

चिदंबरम ने कहा, ‘‘कोई हैरानी की बात नहीं है. यह संक्रमण कम होने का सबूत नहीं है. कम जांच करो, संख्या कम आएगी. अगर जांच नहीं करेंगे तो संक्रमण का कोई मामला सामने नहीं आएगा.'' उन्होंने कहा, ‘‘सरकार को लोगों को बेवकूफ नहीं बनाना चाहिए. उन्हें हर दिन जांच बढ़ानी चाहिए.''

टीके की कमी नहीं होने का दावा खोखला और झूठा है, केंद्र पर बरसे पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम

गौरतलब है कि देश में एक दिन में कोविड-19 से रिकॉर्ड 3,780 लोगों की मौत के बाद बुधवार को इस बीमारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 2,26,188 हो गई, जबकि एक दिन में संक्रमण के 3,82,315 नए मामले सामने आए.

पी चिदंबरम का स्वास्थ्य मंत्री पर निशाना, पूछा- ...तो क्या डॉक्टर हर्षवर्धन इस्तीफा देंगे?


इस बीच बुधवार को प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के. विजयराघवन ने आगाह किया है कि चूंकि सार्स-सीओवी2 और उत्परिवर्तित हो रहा है, इसलिए नई लहरों के लिए तैयार रहना चाहिए. विजयराघवन ने साथ ही यह भी कहा कि देश में कोरोना की दूसरी लहर की तीव्रता का पूर्वानुमान नहीं जताया गया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: नहीं टला है कोरोना का खतरा, लापरवाही से बढ़ेगी मुश्किल



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)