कोविड टीकाकरण में जजों, वकीलों को प्राथमिकता देना भेदभावकारी होगा, कोर्ट में बोली केंद्र सरकार

केंद्र ने अपने एफिडेविट में कहा, "कोविड-19 टीकाकरण अभियान वकीलों के लिए एक अलग वर्ग के आधार पर नहीं चलाया जा सकता है. पेशे के आधार पर टीकाकरण को प्राथमिकता देना राष्ट्रीय हित में नहीं है, इससे देश में भेदभाव पैदा होगा."

कोविड टीकाकरण में जजों, वकीलों को प्राथमिकता देना भेदभावकारी होगा, कोर्ट में बोली केंद्र सरकार

भारत में जनवरी में व्यापक टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गई थी.

नई दिल्ली:

केंद्र सरकार ने आज सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) को सूचित किया है कि कोविड -19 टीकाकरण (Covid-19 Vaccination)  अभियान में न्यायाधीशों, वकीलों और कानूनी बिरादरी के अन्य सदस्यों को प्राथमिकता देना भेदभावपूर्ण होगा. एक जनहित याचिका पर केंद्र ने एक नोटिस का जवाब देते हुए कहा कि पेशे के आधार पर टीकाकरण के लिए किसी को सूचीबद्ध करना राष्ट्र के हित में नहीं है. PIL में जजों, वकीलों, कोर्ट के कर्मचारियों और कानूनविदों को प्राथमिकता के तौर पर पहले टीका देने की मांग की गई थी.

केंद्र ने अपने एफिडेविट में कहा, "कोविड-19 टीकाकरण अभियान वकीलों के लिए एक अलग वर्ग के आधार पर नहीं चलाया जा सकता है. पेशे के आधार पर टीकाकरण को प्राथमिकता देना राष्ट्रीय हित में नहीं है, इससे देश में भेदभाव पैदा होगा."

NOTA को मिले अधिक वोट तो दोबारा चुनाव की मांग वाली याचिका पर SC ने केंद्र को भेजा नोटिस

भारत में जनवरी में व्यापक टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गई थी, जिसके पहले चरण में लगभग 3 करोड़ फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर्स, सुरक्षाकर्मियों और सफाईकर्मियों को टीके लगाए जा चुके हैं. फिलहाल दूसरा चरण चल रहा है. 1 मार्च से शुरू हुए दूसरे चरण के तहत 60 साल से ऊपर के बुजुर्गों या 45 साल से ऊपर के ऐसे लोंगों को टीके लगाए जा रहे हैं जो किसी डायबिटीज, कैंसर जैसी किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं.


कोविड-19 टीकाकरण के बाद खून के थक्के जमने पर आयरलैंड ने एस्ट्राजेनेका टीके पर लगाई रोक

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पिछले महीने अरविंद सिंह नाम के एक शख्स द्वारा दायर जनहित याचिका में कहा गया था कि "पुलिस, सुरक्षा बल, राजस्व अधिकारी - इन सभी लोगों को प्राथमिकता दी गई है लेकिन ये सभी लोग, जो कुछ भी करते हैं, न्यायिक प्रणाली में परिणत होते हैं. जबकि वकील, न्यायिक कर्मचारी, न्यायाधीश वैक्सीन के लिए प्राथमिकता सूची में शामिल नहीं हैं."