Bulli Bai App केस : बेंगलुरु के छात्र के बाद उत्तराखंड से महिला की गिरफ्तारी की गई

मुंबई पुलिस ने ‘बुली बाई’ ऐप मामले में बेंगलुरू से मुंबई लाए गए युवक को गिरफ्तार किया था. कल उसे मुम्बई लाने के बाद से लगातार पूछताछ की जा रही थी.

मुंबई:

बुल्ली बाई ऐप मामले में दो आरोपियों की गिरफ्तारी हुई हैं. बेंगलुरू से मुंबई लाए गए इंजीनियरिंग स्टूडेंट विशाल झा के बाद उत्तराखंड से एक युवती श्वेता सिंह की गिरफ्तारी हुई है. मुंबई में विशाल झा को गिरफ्तारी के बाद कोर्ट में पेश किया गया, जहां उसे 10 जनवरी तक पुलिस रिमांड में भेज दिया गया है. श्वेता सिंह पर बुल्ली बाई ऐप केस में मुख्य सरगना होने का संदेह है. पुलिस उससे पूछताछ कर रही है. विशाल झा श्वेता के लगातार संपर्क में था.मुंबई साइबर पुलिस ने ‘बुल्ली बाई' ऐप मामले (Bulli Bai App Case) में इंजीनियरिंग स्टूडेंट को गिरफ्तार किया था.

इंजीनियरिंग छात्र को कल बेंगलुरु से मुम्बई लाने के बाद उससे लगातार पूछताछ की जा रही थी. यह मामला ऐप पर 'नीलामी' के लिए मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें अपलोड करने से जुड़ा है. बताया जा रहा है कि इस मामले में एक और शख्स से पूछताछ चल रही है. गिरफ्तार आरोपी का नाम विशाल झा है. इंजीनियरिंग का छात्र है. 

पुलिस ने कहा कि बुल्ली बाई ऐप का सिखों से कोई संबंध नहीं है. आरोपियों ने जानबूझकर ऐप को सिख लुक दिया था. उन्होंने आगे बताया कि गिरफ्तार युवक सह आरोपी है, जो मुख्य आरोपी के संपर्क में था. वहीं, मामले में एक और युवक को हिरासत में लिया गया है.

मुंबई पुलिस ने ‘गिटहब' के प्लेटफॉर्म ऐप पर ‘नीलामी' के लिए मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें अपलोड किए जाने की शिकायत मिलने के बाद अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी.

READ ALSO: क्या है Bulli Bai विवाद? 5 बिंदुओं में समझिए 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं की अनुमति के बिना उनकी तस्वीरों से छेड़छाड़ कर उन्हें ‘बुल्ली बाई' ऐप पर ‘नीलामी' के लिए सूचीबद्ध किया गया. एक साल से भी कम समय में दूसरी बार ऐसा हुआ है. यह ऐप ‘सुली डील्स' की तरह है, जिसके कारण पिछले साल इसी तरह का विवाद पैदा हुआ था.