पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य ने ठुकराया पद्म पुरस्‍कार

पीटीआई ने बुद्धदेब भट्टाचार्य के हवाले से कहा है कि अगर सचमुच में उन्होंने मुझे पद्म भूषण देने की घोषणा की है तो मैं इसे अस्वीकार कर सकता हूं.

कोलकाता:

पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेब भट्टाचार्य ने पद्म विभूषण का पुरस्कार ठुकरा दिया है. उनकी ओर से कहा गया है कि किसी ने भी उन्हें यह सम्मान दिए जाने के बारे में कोई सूचना नहीं दी. पीटीआई ने बुद्धदेब के हवाले से कहा है कि अगर सचमुच में उन्होंने मुझे पद्म भूषण देने की घोषणा की है तो मैं इसे अस्वीकार कर सकता हूं. उल्लेखनीय है कि पद्म पुरस्कारों की सूची में विपक्षी दल के नेता बुद्धदेब के साथ गुलाम नबी आजाद का भी नाम शामिल है. साथ ही यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को भी मरणोपरांत पद्म विभूषण दिए जाने का ऐलान किया गया है. पूर्व मुख्यमंत्री और माकपा के वरिष्ठ नेता बुद्धदेव भट्टाचार्य ने मंगलवार को पद्म भूषण सम्मान को अस्वीकार कर दिया.

माकपा सूत्रों के अनुसार यह भट्टाचार्य के साथ ही पार्टी का भी फैसला है. UP के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत कल्याण सिंह और हेलीकॉप्टर दुर्घटना का शिकार हुए भारत के पहले CDS जनरल बिपिन रावत को मंगलवार को मरणोपरांत पद्म विभूषण सम्मान दिए जाने की घोषणा की गई है. 

बुद्धदेब वर्ष 2000 से 2011 तक पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री रहे हैं. वो जादवपुर विधानसभा क्षेत्र से लगातार 24 साल तक विधायक निर्वाचित हुए. वो माकपा के शीर्ष नीति निकाय पोलितब्यूरो के भी सदस्य रहे हैं. तृणमूल कांग्रेस के बंगाल में जीत के पहले वो ही बंगाल के मुख्यमंत्री रहे. हालांकि सिंगुर और नंदीग्राम जैसे आंदोलन के कारण उन्हें सत्ता गंवानी पड़ी.

वहीं बुद्धदेब भट्टाचार्य के पद्म भूषण पुरस्कार ठुकराए जाने को लेकर कांग्रेस के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश का ट्वीट भी सुर्खियों में आ गया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'सही काम किया, वो गुलाम नहीं आजाद रहना चाहते हैं.'

इस साल जिन चार हस्तियों को पद्म विभूषण देने का ऐलान किया गया है, उसमें महाराष्ट्र से कला क्षेत्र में प्रभा अत्रे, यूपी से साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में राधेश्याम खेमका मरणोपरांत) , उत्तराखंड से सार्वजनिक सेवा क्षेत्र में जनरल बिपिन रावत (मरणोपरांत) और पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (मरणोपरांत) शामिल हैं. 

जबकि पद्म भूषण सम्मान पाने वाले 17 लोगों की लिस्ट में पूर्व केंद्रीय मंत्री गुलाम नबी आजाद का नाम सबसे ऊपर है. उन्हें सार्वजनिक सेवा क्षेत्र में यह सम्मान दिया गया है. बुद्धदेब भट्टाचार्य को भी सार्वजनिक मामलों के क्षेत्र में यह सम्मान देने का ऐलान किया गया था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com