बिना मास्क पार्टी का प्रचार करते दिखे BJP के UP अध्यक्ष - बैठक में मौजूद UP प्रभारी कोरोना पॉज़िटिव

चुनाव की तारीखों का ऐलान करते हुए चुनाव आयोग ने 15 जनवरी तक किसी भी तरह की रैली, सभा, रोड शो पर रोक लगा दी थी.

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भाजपा प्रदेश चुनाव समिति की सोमवार को बैठक हुई थी, जिसमें सीएम योगी आदित्यनाथ, यूपी भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, यूपी भाजपा प्रभारी राधा मोहन सिंह सहित पार्टी के कई बड़े नेता शामिल हुए थे. बैठक के बाद राधा मोहन सिंह की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. लेकिन बैठक में उनके बगल में बैठे रहे स्वतंत्र देव सिंह बैठक के बाद डोर-टू-डोर कैम्पेन पर भी गए थे, जहां उन्होंने कई जगह मास्क लगाना भी ज़रूरी नहीं समझा.

इतना ही नहीं, स्वतंत्र देव सिंह प्रचार के दौरान मास्क के बिना मतदाताओं से मिलते हुए दिखे. वह उनके घरों पर पोस्टर चिपकाते और उन्हें तिलक लगाते देखे गए. कुछ वीडियो सामने आए हैं, जिनमें देखा जा सकता है कि स्वतंत्र देव सिंह जिनसे मिल रहे हैं, उन्होंने भी मास्क नहीं पहने हुए हैं.

यूपी भाजपा प्रभारी राधा मोहन सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा है, 'कोरोना के शुरुआती लक्षण दिखने पर मैंने अपना कोविड टेस्ट करवाया, रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है. मैंने स्वयं को आइसोलेट कर लिया है. लक्षण बहुत शुरुआती हैं, मैं स्वस्थ महसूस कर रहा हूं. पिछले कुछ दिनों में जो लोग भी मेरे संपर्क में आए हैं, वो अपनी जांच करवा लें.'

स्वतंत्र देव ने इस दौरान मीडिया से बात करते हुए कहा, 'जनविश्वास यात्रा के माध्यम से जनता के बीच जाकर आशीर्वाद लिया. जनसमर्थन ने एक तरह से विशाल रूप लिया, रैलिया भी हुईं, रोड शो भी हुए, कार्यक्रम भी हुए लोगों का समर्थन मिला. चुनाव आयोग के दिशानिर्देशों के मुताबिक, पांच लोगों को लेकर घर-घर जाकर संपर्क कर रहे हैं. आज उन लाभार्थियों के घर हम पहुंच रहे हैं, जिन्हें सरकार की योजनाओं से लाभ मिला है. केंद्र और राज्य सरकार के कार्यकाल में हुए कामों को लेकर हम जनता के बीच जा रहे हैं. उनसे सुझाव भी ले रहे हैं कि आगे क्या करना चाहिए और अपना रिपोर्ट कार्ड भी लेकर जा रहे हैं.'

कहीं भी भारी भीड़ से कोरोना के मामलों में उछाल आएगा, यूपी के स्वास्थ्य मंत्री ने माना

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के साथ पंजाब, गोवा, मणिपुर और उत्तराखंड में 10 फरवरी से मतदान शुरू हैं. शनिवार को चुनाव की तारीखों का ऐलान करते हुए चुनाव आयोग ने 15 जनवरी तक किसी भी तरह की रैली, सभा, रोड शो पर रोक लगा दी थी. इसके साथ ही वर्चुअली माध्यमों का इस्तेमाल करने पर जोर दिया था. यह फैसला देश में तेजी के साथ फैलते कोरोना वायरस और उसके नए वेरिएंट की वजह से किया गया था. 

इसके साथ ही मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कोविड से सुरक्षा के सदर्भ में कड़े दिशानिर्देश भी जारी किए. चुनाव आयोग ने 16 सूत्री दिशानिर्देश जारी किए. सार्वजनिक सड़कों और चौराहों पर नुक्कड़ सभा करने पर रोक लगाई है, हालांकि सीमित संख्या में लोगों के घर-घर पहुंचकर प्रचार करने की अनुमति दी है. चुनाव नतीजों के बाद विजय जुलूस निकालने पर भी रोक होगी.

यूपी में अब सरकारी-निजी दफ्तरों में एक समय में 50% स्टाफ ही करेगा काम, कोरोना को लेकर सख्ती

बता दें, उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के मामले तेजी के साथ बढ़ रहे हैं. राज्य में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 8,334 नये मामले सामने आए हैं, वहीं चार मरीजों की मौत हुई है. संक्रमण से जान गंवाने वालों में मेरठ, प्रयागराज, बुलंदशहर और सोनभद्र जिले के एक-एक मरीज हैं. इस समय राज्य में 33,946 मरीजों का उपचार चल रहा है. पिछले 24 घंटों में राज्य के गाजियाबाद जिले में 1385, गौतमबुद्ध नगर में 1223, लखनऊ में 1114, मेरठ में 1071 नये मरीज पाए गए हैं. वहीं, पिछले 24 घंटे में कुल 335 मरीज स्वस्थ हुए हैं और अब तक कुल 16,88,953 मरीज संक्रमण मुक्त हो चुके हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


UP में चुनाव से पहले वैक्‍सीनेशन की चुनौती, अब तक सिर्फ 53 फीसद को दोनों डोज