वोट लेने के लिए तालिबान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान का मुद्दा उठाती है भाजपा : महबूबा मुफ्ती

मुफ्ती ने दावा किया कि भाजपा के कार्यकाल में हिंदू नहीं, बल्कि लोकतंत्र और भारत खतरे में हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पिछले 70 वर्षों के सभी ‘‘अच्छे काम’’ को भाजपा बर्बाद करने पर तुली है और भगवा पार्टी ने देश के संसाधनों को बेचना शुरू कर दिया है.

वोट लेने के लिए तालिबान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान का मुद्दा उठाती है भाजपा : महबूबा मुफ्ती

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (फाइल फोटो)

जम्मू:

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने भारतीय जनता पार्टी पर तालिबान, अफगानिस्तान और पाकिस्तान के मुद्दों पर वोट हासिल करने का आरोप लगाते हुए रविवार को कहा भगवा पार्टी का सात साल का शासन देश के लोगों के लिए मुसीबत लाया है और इसने जम्मू कश्मीर को ‘बर्बाद' कर दिया. मुफ्ती ने दावा किया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकाल में हिंदू नहीं, बल्कि लोकतंत्र और भारत खतरे में है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पिछले 70 वर्षों के सभी ‘‘अच्छे काम'' को भाजपा बर्बाद करने पर तुली है और भगवा पार्टी ने देश के संसाधनों को बेचना शुरू कर दिया है.

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद भारत करेगा और निवेश? नितिन गडकरी ने दिया जवाब

पीडीपी अध्यक्ष ने कहा कि केंद्र में सत्तारूढ़ दल ने विपक्षी दलों के विधायकों को ‘‘खरीदने या डराने'' के लिए अपना खजाना भरने के वास्ते आवश्यक वस्तुओं की कीमतों को बढ़ाना शुरू कर दिया है. उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र में भाजपा नीत सरकार अपनी तिजोरी भरने के लिए पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ा रही है, कर लगाए गए हैं और अपने प्रचार पर वह करोड़ों रुपये का इस्तेमाल कर रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ऐसे धन का उपयोग ‘‘अन्य दलों के विधायकों को खरीदने'' और ‘‘सरकारी एजेंसियों का इस्तेमाल उन लोगों को डराने के लिए करती है जो उसके प्रस्ताव को ठुकरा देते हैं.''

पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने आलोचकों पर कटाक्ष किया और कहा कि तालिबान का उल्लेख करने भर से किसी को ‘‘राष्ट्र-विरोधी'' करार दिया जाता है और बहस तथा चर्चाएं शुरू हो जाती हैं, जबकि किसानों के आंदोलन, महंगाई और सार्वजनिक महत्व के अन्य मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए. पीडीपी की युवा इकाई द्वारा आयोजित रैली को संबोधित करते हुए मुफ्ती ने कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर संकट में है और यही हाल देश का है…वह (भाजपा) कहती है कि हिंदू खतरे में हैं लेकिन वे (हिंदू) खतरे में नहीं हैं. असल में उनकी (भाजपा की) वजह से भारत और लोकतंत्र खतरे में हैं.''

अफगानिस्तान में अमेरिका का साथ देने की 'भारी कीमत चुकाई', US सांसदों के बयान पर भड़के इमरान खान

महबूबा मुफ्ती पुंछ और राजौरी जिलों के पांच दिवसीय दौरे के बाद शनिवार देर रात जम्मू पहुंचीं. जम्मू में पीडीपी अध्यक्ष को राष्ट्रीय बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के विरोध का सामना करना पड़ा. शहर में डोगरा चौक के पास मुफ्ती के काफिले को रोकने के प्रयास को पुलिस ने नाकाम कर दिया. पीडीपी प्रमुख ने कहा, ‘‘ जैसे-जैसे विभिन्न राज्यों में चुनाव नजदीक आएंगे, भाजपा तालिबान और अफगानिस्तान का नाम लेना शुरू कर देगी और अगर इससे बात नहीं बनी, तो पाकिस्तान और ड्रोन के विषय को सामने ले आएगी.''

मुफ्ती ने कहा, ‘‘वे चीन के बारे में बात नहीं करेंगे जिसने लद्दाख में घुसपैठ की है क्योंकि उन्हें उस देश के बारे में बात करने से वोट नहीं मिलता है. अगर आप लोगों को डराना चाहते हैं तो तालिबान, अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बारे में बात करना होगा और कुछ ऐसा करना होगा जिससे कि वोट मिले.'' उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों का जिक्र करते हुए मुफ्ती ने आरोप लगाया कि राज्य के मौजूदा मुख्यमंत्री (योगी आदित्यनाथ) रोजगार प्रदान करने, सड़क और स्कूल की व्यवस्था करने में विफल रहे, जबकि गंगा नदी जिसे देश के लोगों द्वारा पवित्र माना जाता है, उसमें शव बहते नजर आए क्योंकि लोगों के पास अपने सगे-संबंधियों का अंतिम संस्कार करने के लिए पैसे नहीं हैं.

अफगानिस्तान में तालिबान का मुकाबला करने में कैसे असफल हुआ पंजशीर?


मुफ्ती ने आरोप लगाया, ‘‘उनके पास लोगों को बताने के लिए कुछ नहीं है...इसलिए वे वोट हासिल करने के लिए पाकिस्तान और जम्मू कश्मीर का इस्तेमाल करेंगे. उन्होंने जम्मू-कश्मीर को तबाह कर दिया है और उन लोगों पर अत्याचार करने के लिए लाठियों का इस्तेमाल कर रहे हैं जिन्हें अपने अधिकारों के लिए खुलकर बोलने की अनुमति नहीं है.'' उन्होंने कहा, ‘‘किसानों का आंदोलन, बढ़ती बेरोजगारी, महंगाई और अन्य मुद्दों पर हमारी बहस केंद्रित होनी चाहिए थी, लेकिन इन अहम मुद्दों पर कोई चर्चा नहीं होती. चूंकि उत्तर प्रदेश में चुनाव होने वाला है, इसलिए तालिबान व अफगानिस्तान पर चर्चा होगी.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


स्व-शासन की व्याख्या करते हुए, मुफ्ती ने कहा कि जम्मू कश्मीर की स्थिति रणनीतिक लिहाज से महत्वपूर्ण है और अगर सीमाओं पर पारंपरिक मार्ग खोल दिए जाएं तो यह मध्य एशिया का प्रवेश द्वार हो सकता है. यदि सभी पड़ोसी देशों को बैंकों की शाखाएं खोलने की अनुमति दी जाती है तो इससे रोजगार के अवसर बनेंगे. उन्होंने कहा कि अगर विभाजन के दौरान भाजपा का नेतृत्व होता तो मुस्लिम बहुल राज्य कभी भी भारत में शामिल नहीं होता. मुफ्ती ने कहा, ‘‘हाल में दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हमारी मुलाकात के दौरान मैंने उनसे कहा कि आपने जम्मू कश्मीर को तबाह कर दिया है, जहां किसी को भी खुलकर बोलने की इजाजत नहीं है. समस्या अब देश में हर जगह एक जैसी है, जहां लॉकडाउन संकट के दौरान शानदार काम करने वाले अभिनेता सोनू सूद और अन्य कार्यकर्ता प्रवर्तन निदेशालय की छापेमारी का सामना कर रहे हैं.''



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)