सुशील मोदी ने क्यों कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी से बिहार में कोई गठबंधन नहीं है?

Bihar Assembly Election 2020 : बिहार के उप मुख्यमंत्री और भाजपा (BJP) के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने साफ़ किया है कि लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) से बिहार में किसी प्रकार का कोई गठबंधन नहीं हैं.

सुशील मोदी ने क्यों कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी से बिहार में कोई गठबंधन नहीं है?

Bihar Assembly Election 2020 : सुशील मोदी ने कहा-नीतीश ही होंगे मुख्यमंत्री (फाइल फोटो)

खास बातें

  • सुशील मोदी बोले-बिहार में भाजपा, जदयू, हम और वीआईपी का गठबंधन
  • डिप्टी सीएम ने स्पष्ट किया कि गठबंधन जीता तो नीतीश कुमार ही मुख्यमंत्री
  • भाजपा ने पहले चरण के लिए विधानसभा चुनाव प्रचार तेज किया
पटना:

Bihar Assembly Election 2020 : बिहार के उप मुख्यमंत्री और भाजपा (BJP) के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने साफ़ किया है कि लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) से बिहार में किसी प्रकार का कोई गठबंधन नहीं हैं.सुशील मोदी सोमवार को चुनावी सभाओं में भाग लेने से पहले पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों के सवाल का जवाब दे रहे थे.

यह भी पढ़ें- बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व को स्वीकार करने वाला ही NDA में रहेगा : बीजेपी

सुशील मोदी ने स्पष्ट कहा, ‘ हमारा गठबंधन भाजपा, जदयू , जीतन  राम मांझी की हम और मुकेश साहनी की VIP के बीच है. ये चार दल मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं. कोई दूसरी पार्टी हमारे गठबंधन में शामिल नहीं है. उन्होंने दो टूक शब्दों में कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी से हमारा बिहार में किसी भी प्रकार का कोई गठबंधन नहीं है. सुशील मोदी के अनुसार, गठबंधन के नेता नीतीश कुमार हैं. गठजोड़ को बहुमत मिलेगा तो नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री बनेंगे.


उन्होंने फिर दोहराया कि किसी को भी किसी प्रकार का भ्रम नहीं होना चाहिए. सुशील मोदी के इस बयान का साफ़ यही अर्थ लगाया जा रहा हैं कि उन्होंने फ़िलहाल सार्वजनिक रूप से चिराग़ पासवान के लोक जनशक्ति से दूरी बनाई है, जिससे वोटर को साफ़ साफ़ संदेश जाए कि कौन एनडीए में है और कौन बाहर. वहीं लोक जनशक्ति पार्टी के नेताओं का कहना हैं कि  सुशील मोदी ऐसे बयान देकर पार्टी के ऊपर दबाव बना रहे हैं कि दूसरे दौर के चुनाव के लिए उनका दल प्रत्याशी न खड़े करे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


लोजपा को फूंक-फूंक कर रखने होंगे कदम
जानकारों की माने तो फ़िलहाल चिराग़ पासवान का केंद्र में मंत्री बनना और पिता रामविलास पासवान के निधन के बाद उनकी जगह राज्य सभा में अपनी मां को भेजना सब भाजपा और जनता दल यूनाइटेड के मदद के बिना संभव नहीं है. ऐसे में उनको अब हर कदम फूंक फूंक कर उठाना होगा.