बिहार में कोरोना से जुड़ी पाबंदियों में ढील का ऐलान, दुकानों-कार्यालयों के लिए समयसीमा तय

Bihar Corona News Updates: नीतीश कुमार ने कहा कि अगले एक सप्ताह तक यानी 16.06.21 से 22.06.21 तक प्रतिबंधों में ढील दी गई है. अब सरकारी एवं गैर सरकारी कार्यालय शाम 5 बजे तक, दुकानें और अन्य व्वासायिक प्रतिष्ठान 6 बजे तक खुली रहेंगी.

बिहार में कोरोना से जुड़ी पाबंदियों में ढील का ऐलान, दुकानों-कार्यालयों के लिए समयसीमा तय

Nitish Kumar ने Bihar Lockdown में ढील की घोषणा की

खास बातें

  • बिहार में 14 जून को कोरोना के 324 नए मामले सामने आए
  • बिहार के मुख्यमंत्री ने लोगों से सावधानी में कोई ढील न देने को कहा
  • बिहार में कोरोना से जु़ड़ी मौतों में हुआ था बड़ा बदलाव
पटना:

Bihar Corona News Updates: बिहार में कोरोना वायरस के मामलों में कमी के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पाबंदियों में और ढील देने का ऐलान किया है. कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा के दौरान मंगलवार को मुख्यमंत्री ने यह घोषणा की.नीतीश कुमार ने कहा कि अगले एक सप्ताह तक यानी 16.06.21 से 22.06.21 तक प्रतिबंधों में ढील दी गई है. अब सरकारी एवं गैर सरकारी कार्यालय शाम 5 बजे तक, दुकानें और अन्य व्वासायिक प्रतिष्ठान 6 बजे तक खुली रहेंगी. नाइट कर्फ्यू रात 8 बजे से सुबह 5 बजे तक लागू रहेगा.

'अभी भी आंकड़े संदेहास्पद', बिहार में कोविड मृतकों की संख्या पर हाईकोर्ट असंतुष्ट

बिहार में कोरोना से सोमवार को 13 मरीजों की मौत हुई थी. जबकि संक्रमण के 324 नए मामले सामने आए थे. बिहार में कोरोना के कुल मृतकों की संख्या 9505 हो गई है. जबकि अब तक कुल संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 717539 हो गई है.बिहार में सोमवार को पिछले 24 घंटे में संक्रमण के सबसे अधिक 52 मामले मुजफ्फरपुर जिले में सामने आए थे. बिहार में अब तक 703262 मरीज कोरोना से स्वस्थ हो चुके हैं.

इनमें पिछले 24 घंटे के भीतर ठीक हुए 851 मरीज भी शामिल हैं.  बिहार में पिछले 24 घंटों के दौरान कुल 106225 नमूनों की जांच की गई. पिछले साल कोरोना महामारी की शुरुआत से अब तक बिहार में कुल 31429415 नमूनों की जांच की जा चुकी है. बिहार में वर्तमान में 4771 मरीज उपचाराधीन हैं और ठीक होने की दर 98.01 प्रतिशत है.

बिहार में कोरोना से हुई मौत का आंकड़ा पिछले हफ्ते अचानक ही 5,458 से बढ़कर सीधे 9,429 हो गया था. इससे कुल मृतकों की तादाद सीधे 73 फ़ीसदी बढ़ गई थी. बिहार सरकार पर इससे आरोप लगा था कि मौत के आंकड़े को छिपाया गया था. हालांकि भी लोगों का कहना है कि अस्पताल और श्मशान के आंकड़ों का मिलान कराया जाए तो ये आंकड़ा कहीं ज़्यादा निकलेगा. पटना हाईकोर्ट ने भी नए संशोधन के बाद भी आशंका जताई है कि अभी भी ये डेटा संदिग्ध लग रहा है. 


कोरोना से हुई मौत के नए आंकड़ों से भी असंतुष्ट पटना HC, राज्य सरकार ने कोर्ट में मानी गलती

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a press release)