बिहार चुनाव : चिराग पासवान बोले- नीतीश कुमार के खिलाफ ही मेरी राजनीति की शुरुआत हुई थी

नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड के नेतृत्व वाली सरकार का हिस्सा रही एलजेपी खुद को जेडीयू नहीं, बीजेपी का सहयोगी बताती रही है. NDTV से बातचीत में चिराग पासवान ने कहा कि उनकी राजनीति ही नीतीश कुमार के खिलाफ हुई थी.

बिहार चुनाव : चिराग पासवान बोले- नीतीश कुमार के खिलाफ ही मेरी राजनीति की शुरुआत हुई थी

चिराग पासवान की पार्टी LJP ने चुनावों में अकेले उतरने का फैसला किया है.

नई दिल्ली:

Bihar Assembly Elections 2020: बिहार विधानसभा चुनावों में बहुत ज्यादा वक्त नहीं बचा है. सीट शेयरिंग और उम्मीदवारों के नाम को लेकर चर्चा और बैठकें जोरों पर हैं. लेकिन सबसे बड़ा मोड़ युवा नेता चिराग पासवान (Chirag Paswan) की पार्टी लोकजनशक्ति पार्टी के महागठबंधन से अलग होने के बाद आया है. चिराग पासवान ने इन चुनावों में अकेले लड़ने का फैसला किया है. एलजेपी केंद्र में एनडीए की सदस्य है और चिराग कुछ दिन पहले तक बीजेपी के साथ बैठकें करते रहे हैं. हालांकि, अब उन्होंने अकेले की लड़ाई की घोषणा कर दी है. 

नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड के नेतृत्व वाली सरकार का हिस्सा रही एलजेपी खुद को जेडीयू नहीं, बीजेपी का सहयोगी बताती रही है. NDTV से बातचीत में चिराग पासवान ने कहा कि उनकी राजनीति ही नीतीश कुमार के खिलाफ हुई थी. उन्होंने कहा, 'मजबूरीवश हमारा गठबंधन हुआ, जब 2017 रातों-रात माननीय मुख्यमंत्री महागठबंधन छोड़कर हमारे एनडीए का हिस्सा बने और फिर मुख्यमंत्री बन गए. उसी वक्त पहली जेडीयू और एलजेपी का अलाएंस हुआ क्योंकि हमारा अलाएंस बीजेपी के साथ था.'

यह भी पढ़ें: चिराग पासवान बोले: सहयोगियों की नहीं सुनते नीतीश कुमार, मजबूरी में JDU के साथ थे 

उन्होंने आगे कहा, 'जहां तक मेरी बात है, 2013 में मैं जबसे सक्रिया राजनीति में आया हूं, तबसे अबतक लेकर मेरी राजनीति की शुरुआत ही नीतीशजी के खिलाफ हुई है. 2014 का उदाहरण दूंगा, उस पास हमारे पास विकल्प था, हम लोग चाहते तो नीतीशजी के साथ जा सकते थे. या फिर मौजूदा प्रधानमंत्री के साथ जा सकते थे. हमने मौजूदा प्रधानमंत्री के साथ जाने को चुना.'

उनके फैसले पर बीजेपी के रुख पर पूछे गए सवाल पर चिराग पासवान ने बताया कि 'गठबंधन की राजनीति में ऐसा होता रहता है. बीजेपी ने इसे खूबसूरती से समझा है.' 'मोदी से बैर नहीं, नीतीश तेरी खैर नहीं' के नारे पर सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा, 'मेरी नीतीशजी के साथ व्यक्तिगत लड़ाई नहीं, उनकी कार्यशैली से है. वो अपने सहयोगियों की नहीं सुनते हैं. मैंने 2017 से ही उन्हें कई मुद्दों पर सुझाव भेजे हैं, लेकिन वो किसी बात पर नहीं सुनते.'

उन्होंने बीजेपी के खिलाफ उम्मीदवार उतारने के सवाल पर कहा कि वो पहले उम्मीदवारों की घोषणा हो जाना चाहते हैं. हालांकि, उन्होंने माना कि कुछ सीटों पर फ्रेंडली फाइट हो सकती है. उन्होंने कहा, 'जहां हमारा सिटिंग विधायक है, वहां बीजेपी उम्मीदवार उतारेगी तो वहां फ्रेंडली फाइट होगी.'

Video: चिराग ने लिखा पत्र, कहा- बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट की सोच नहीं मिटेगी


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com