BHU में खुले हॉस्टल, ऑफलाइन क्लासेज भी शुरू; यूनिवर्सिटी गेट पर धरना दे रहे 5 छात्र गिरफ्तार 

रिलीज में कहा गया है, "काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के लिए छात्रों का हित एवं सुरक्षा सर्वोपरि है और भारत सरकार के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए BHU को चरणबद्ध तरीके से खोला जा रहा है. भविष्य में भी स्थिति में सुधार के साथ साथ सरकार के दिशानिर्देशों के आलोक में छात्र हित में समुचित निर्णय लिये जाएंगे."

BHU में खुले हॉस्टल, ऑफलाइन क्लासेज भी शुरू; यूनिवर्सिटी गेट पर धरना दे रहे 5 छात्र गिरफ्तार 

बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी (BHU) प्रशासन ने चरणबद्ध तरीके से ऑफलाइन मोड में क्लास शुरू करने का फैसला किया है.

वाराणसी:

बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी (BHU) प्रशासन ने चरणबद्ध तरीके से ऑफलाइन मोड में क्लास शुरू करने का फैसला किया है. यूनिवर्सिटी प्रशासन ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर इसकी जानकारी दी है. 22 फरवरी को जारी प्रेस रिलीज में यूनिवर्सिटी ने कहा है, "विश्वविद्यालय को चरणबद्ध तरीके से खोलने के क्रम में अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए छात्रावास 17 फरवरी, 2021 से खोले गए व अंतिम वर्ष के छात्रों के लिए हाईब्रिड (ऑफलाइन व ऑनलाइन) मोड में कक्षाएं आज से प्रारंभ हो गई हैं.' 

रिलीज में कहा गया है, "काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के लिए छात्रों का हित एवं सुरक्षा सर्वोपरि है और भारत सरकार के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए #BHU को चरणबद्ध तरीके से खोला जा रहा है. भविष्य में भी स्थिति में सुधार के साथ साथ सरकार के दिशानिर्देशों के आलोक में छात्र हित में समुचित निर्णय लिये जाएंगे."

कोविड-19 महामारी की वजह से विश्वविद्यालय में करीब सालभर से पठन-पाठन बंद है. स्थिति में सुधार होने के बाद छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन से यूनिवर्सिटी खोलने की मांग की थी और अपनी मांगों के समर्थन में यूनिवर्सिटी के मेन गेट पर कई दिनों से धरना दे रहे थे. पुलिस प्रशासन ने धरना दे रहे पांच छात्रों को गिरफ्तार कर लिया है और मेन गेट खाली करवा लिया है. 


वाराणसी: बीएचयू में छात्रों ने किया विरोध प्रदर्शन, रोजगार देने की मांग

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


विश्वविद्यालय प्रसासन ने प्रेस रिलीज में प्रदर्शन कर रहे छात्रों से अपील की है कि विश्वविद्यालय परिसर में कानून-व्यवस्था बनाए रखें एवं मेन गेट पर आवागमन को बाधित न करें. इससे आमजनों और बाहर सेआने वाले मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. यूनिवर्सिटी ने कहा है कि कोविड की वजह से छात्रों एवं अन्य लोगों के स्वास्थ्य एवं सुरक्षा के साथ किसी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा.