कूचबिहार की घटना को लेकर ममता ने की इस्तीफे की मांग, अमित शाह बोले- 'मैं तैयार हूं, बशर्ते...'

टीएमसी प्रमुख बनर्जी ने शनिवार को कूचबिहार जिले के सीतलकूची में चौथे चरण के मतदान के दौरान सीआईएसएफ कर्मियों की गोलीबारी में चार व्यक्तियों के मारे जाने को लेकर शाह से इस्तीफे की मांग की थी.

कूचबिहार की घटना को लेकर ममता ने की इस्तीफे की मांग, अमित शाह बोले- 'मैं तैयार हूं, बशर्ते...'

शाह ने कहा कि भाजपा बांग्लादेश से अवैध प्रवासियों के आने पर पूरी तरह से रोक लगा देगी

खास बातें

  • 'ममता को दो मई को मुख्यमंत्री का पद छोड़ना होगा'
  • 'अवैध प्रवासी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठाते हैं'
  • 'भाजपा अवैध प्रवासियों के आने पर पूरी तरह से रोक लगा देगी'
बसीरहाट (पश्चिम बंगाल):

West Bengal assembly elections 2021: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने रविवार को कहा कि वह अपने पद से इस्तीफा देने के लिए तैयार हैं, बशर्तें जब पश्चिम बंगाल के लोग उनसे ऐसा करने को कहें. भाजपा के वरिष्ठ नेता शाह ने हालांकि कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को दो मई को पद छोड़ना होगा क्योंकि तृणमूल कांग्रेस (TMC) मौजूदा विधानसभा चुनाव (West Bengal assembly elections) हार जाएगी. टीएमसी प्रमुख बनर्जी ने शनिवार को कूचबिहार जिले के सीतलकूची में चौथे चरण के मतदान के दौरान सीआईएसएफ कर्मियों की गोलीबारी में चार व्यक्तियों के मारे जाने को लेकर शाह से इस्तीफे की मांग की थी. शाह ने उत्तर 24 परगना जिले के बसीरहाट में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘दीदी मेरा इस्तीफा मांग रही हैं. यदि पश्चिम बंगाल के लोग यह मांग करें तो मैं इस्तीफा दे दूंगा, मैं अपना सिर झुकाकर ऐसा करने के लिए तैयार हूं. हालांकि, ममता को दो मई को मुख्यमंत्री का पद छोड़ना होगा.''

चुनाव आयोग पर फूटा CM ममता बनर्जी का गुस्सा, कहा- EC का नाम बदलकर MCC कर देना चाहिए...

पश्चिम बंगाल की 294 विधानसभा सीटों के लिए आठ चरणों में चुनाव होने के बाद दो मई को मतगणना होगी. शाह ने बनर्जी पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि वह अवैध प्रवासियों के तुष्टिकरण के लिए संशोधित नागरिकता कानून का विरोध कर रही हैं. शाह ने दावा किया कि अवैध प्रवासी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठाते हैं और दंगों में लिप्त होते हैं.

"सुरक्षाबलों ने जिंदगी बचाने के लिए फायरिंग की": बंगाल में हुईं मौतों पर बोला चुनाव आयोग

उन्होंने कहा, ‘‘यदि मतुआ समुदाय के लोगों को नागरिकता मिल जाए तो दीदी को क्या दिक्कत है? उनकी समस्या यह है कि अवैध प्रवासी नाराज हो जाएंगे. ऐसे लोगों को अब राज्य पर शासन करने का अधिकार नहीं है. अवैध प्रवासी मुफ्त राशन जैसी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठाते हैं लेकिन दंगों में लिप्त होते हैं.''


शाह ने कहा कि भाजपा बांग्लादेश से अवैध प्रवासियों के आने पर पूरी तरह से रोक लगा देगी और राज्य में सरकार बनाने के बाद सीएए के खिलाफ विधानसभा में पारित प्रस्ताव वापस लेगी. उन्होंने लाभार्थियों को 10,000 रुपये की वार्षिक सहायता देने के लिए ‘‘मुख्यमंत्री शरणार्थी कल्याण कोष'' शुरू करने का वादा भी किया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कूचबिहार हिंसा: EC पर बरसीं ममता बनर्जी, बोलीं- "ये नरसंहार है"



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)