असम और यूपी के बाद BJP शासित कर्नाटक में जनसंख्या नीति की तैयारी, राष्ट्रीय महासचिव ने दिए संकेत

कर्नाटक के पहले यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बढ़ती जनसंख्या को स्थिर करने के लिए यूपी जनसंख्या नियंत्रण नीति पेश की थी.BJP शासितअसम ने भी घोषणा की है कि वह कल्याणकारी योजनाओं के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए 2 बच्चों की नीति को लागू करेगा.

असम और यूपी के बाद BJP शासित कर्नाटक में जनसंख्या नीति की तैयारी, राष्ट्रीय महासचिव ने दिए संकेत

Karnataka News Updates : बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि ने दिए संकेत

बेंगलुरु :

बीजेपीशासित राज्यों में जनसंख्या नियंत्रण को लेकर नई नीति ( Population Control Policy) लाने की होड़ मच गई है. असम और यूपी के बाद कर्नाटक में जनसंख्या को नियंत्रित करने की कवायद शुरू होने के संकेत मिले हैं. कर्नाटक में बीजेपी नेता और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सी टी रवि ने मंगलवार को कहा कि सीमित संसाधनों के बीच बढ़ती आबादी को रोकने के लिए पार्टी शासित असम और उत्तर प्रदेश की तरह कर्नाटक में एक नई पॉपुलेशन कंट्रोल पॉलिसी लाई जानी चाहिए.

जनसंख्या नीति से चीन जैसा नुकसान या देश के रोजगार-संसाधनों का बेहतर इस्तेमाल, जानिए विशेषज्ञों की राय 

चिकमंगलुरु से BJP विधायक रवि ने एक ट्वीट में कहा कि अब वक्त आ गया है कि कर्नाटक अपनी बढ़ती जनसंख्या को काबू में करने के लिए असम और यूपी की तरह एक नई जनसंख्या नीति लेकर आए. सीमित संसाधनों के कारण जनसंख्या विस्फोट होने पर प्रत्येक नागरिक की आवश्यकताओं को पूरा करना कठिन होगा. इससे पहले, कर्नाटक के कानून मंत्री बसवराज बोम्मई ने सोमवार को कहा था कि चर्चा और विचार-विमर्श के बाद फैसला लिया जाएगा.

‘उत्तर प्रदेश जनसंख्या नीति 2021-2030' (UP Population Control Policy 2021-2030) को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में बढ़ती जनसंख्या को स्थिर करने और समयबद्ध तरीके से मातृ एवं शिशु मृत्यु को कम करने के लिए 11 जुलाई को पेश किया था. यूपी जनसंख्या नियंत्रण विधेयक का मसौदा राज्य विधि आयोग की वेबसाइट पर भी अपलोड कर दिया गया है.


बीजेपीशासित एक और राज्य असम (Assam 2 Child Policy) ने भी घोषणा की है कि वह राज्य की कल्याणकारी योजनाओं के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए धीरे-धीरे 2 बच्चों की नीति को लागू करेगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जनसंख्या नियंत्रण पर क्या है BJP की योजना? 'बात पते की' अखिलेश शर्मा के साथ