उत्तराखंड में साइंटिफिक और प्रैक्टिकल अप्रोच के साथ चुनाव लड़ेगी AAP, बोले CM कैंडिडेट

उन्होंने कहा, "उत्तराखंड अपनी बिजली खुद बना रहा है. बांध से बिजली बन रही है. इसलिए यहां बिजली पानी मुफ़्त नहीं बल्कि हक़ की बात है." उन्होंने कहा कि जब हमने उत्तराखंड को हिंदुओं की आध्यात्मिक राजधानी बनाने की बात की तो इसका मतलब यह नहीं कि हम सर्वधर्म समभाव को भूल गए.

नई दिल्ली:

उत्तराखंड (Uttarakhand) के आगामी विधान सभा चुनाव में आम आदमी पार्टी (AAP) के  मुख्यमंत्री उम्मीदवार कर्नल अजय कोठियाल ने कहा है कि उनकी पार्टी राज्य में साइंटिफिक और प्रैक्टिकल अप्रोच के साथ चुनाव प्रचार करेगी और उसके लिए मुद्दे उठाएगी.  NDTV से खास बातचीत में उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी जनता से पूछकर उनके मुद्दे तय कर रही है.

कोठियाल ने कहा कि राज्य के लोगों ने अब सत्ताधारी बीजेपी और विपक्षी कांग्रेस की तरफ देखना बंद कर दिया है और आम आदमी पार्टी की ओर उम्मीद से देख रही है क्योंकि पता नहीं कब बीजेपी का विधायक कांग्रेस में चला जाय और कब कांग्रेस का विधायक बीजेपी में चला जाय.

उन्होंने कहा, "उत्तराखंड अपनी बिजली खुद बना रहा है. बांध से बिजली बन रही है. इसलिए यहां बिजली पानी मुफ़्त नहीं बल्कि हक़ की बात है." उन्होंने कहा कि जब हमने उत्तराखंड को हिंदुओं की आध्यात्मिक राजधानी बनाने की बात की तो इसका मतलब यह नहीं कि हम सर्वधर्म समभाव को भूल गए बल्कि इसका मतलब यह है कि हम उत्तराखंड के अलग-अलग स्थलों को पर्यटन के लिहाज से विकसित और प्रचारित करेंगे. इसके लिए बकायदा कानून बनाया जाएगा. उन्होंने कहा कि यहां स्पिरिचुअल टूरिज्म भी होगा और रिलिजियस टूरिज्म भी होगा.

कोठियाल ने कहा कि जनता के बीच घूमने पर समझ में आता है कि यहां सबसे अहम मुद्दा है कि कैसे युवाओं को रोजगार मिले? उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल जी इस बारे में घोषणा करेंगे. उन्होंने कहा कि हम सारी घोषणाएं एक साथ नहीं कर रहे, बल्कि एक-एक घोषणा करके लोगों को समझाते हुए आगे बढ़ रहे हैं और यही आप के प्रचार का तरीका है.


उन्होंने कहा, "मैं मूल रूप से पंजाब के गुरदासपुर का निवासी हूं लेकिन चुनाव उत्तराखंड की किसी एक विधानसभा सीट से लड़ूंगा." उन्होंने कहा कि उत्तराखंड को बने 20-21 साल हो गए लेकिन जनता चिंतित है कि हमारा भविष्य क्या है. आम आदमी पार्टी ने अपना गवर्नेंस मॉडल साबित किया है. इसलिए हमको लगता है उत्तराखंड की जनता हमें ही चुनेगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हालांकि, कितनी सीट जीतेंगे इस पर उन्होंने कहा कि अभी सीटों को लेकर कोई भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है क्योंकि चुनाव होने में अभी 4 महीने का समय बचा हुआ है. उन्होंने कहा कि इन चार महीनों यानी 120 दिन में हम खूब मेहनत करेंगे.