PM मोदी की नई 'कैबिनेट का नया समाजशास्त्र': 27 OBC, 11 महिलाओं और 5 अल्पसंख्यकों को जगह

सरकार ने मंत्रिपरिषद में फेरबदल को लेकर जातीय और क्षेत्रीय संतुलन को लेकर खास ध्यान रखा है. अनुसूचित जाति (SC) से मंत्रिपरिषद में 12 मंत्री होंगे, जिसमें से 2 कैबिनेट मंत्री होंगे.

PM मोदी की नई 'कैबिनेट का नया समाजशास्त्र': 27 OBC, 11 महिलाओं और 5 अल्पसंख्यकों को जगह

नई मंत्रिपरिषद में चार पूर्व मुख्यमंत्रियों को भी जगह (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रिपरिषद में आज शाम 6 बजे व्यापक फेरबदल होने जा रहा है. कहा जा रहा है कि आगामी विधानसभा चुनावों और जातिगत समीकरण समेत अन्य बातों को ध्यान में रखते हुए मंत्रिपरिषद में बदलाव किया जा रहा है. जहां ज्योतिरादित्य सिंधिया, वरुण गांधी, अनुुप्रिया पटेल जैसे युवा चेहरों की एंट्री होने की संभावना जताई जा रही है, वहीं कुछ मंत्रियों के प्रमोशन और कुछ को कैबिनेट से बाहर करने की खबरें हैं. फेरबदल के बाद, प्रधानमंत्री के मंत्रिपरीषद की सूरत क्या होगी आइये एक नजर डालते हैं...

अनुसूचित जाति (SC) से मंत्रिपरिषद में 12 मंत्री होंगे, जिसमें से 2 कैबिनेट मंत्री होंगे. वहीं, अनसूचित जनजाति से 8 मंत्री होंगे, जिसमें से तीन को मंत्रिमंडल में जगह मिलेगी. इसी तरह मंत्रिपरिषद में ओबीसी से 27 मंत्री होंगे, जिसमें पांच कैबिनेट में शामिल होंगे. अल्पसंख्यक वर्ग से 5 मंत्री, जिसमें से तीन कैबिनेट में सम्मिलित होंगे. 

मंत्रिपरिषद में महिला सदस्यों की संख्या 11 होगी, जिसमें से दो महिलाएं कैबिनेट मंत्री के पद पर होंगी. जानकारी के मुताबिक, फेरबदल के बाद तैयार होने वाले मंत्रिपरिषद में 14 मंत्रियों की आयु 50 साल से कम है. मंत्रिपरिषद की औसत आयु 58 साल है. 

READ ALSO: शपथग्रहण से पहले हर्षवर्धन, पोखरियाल, गंगवार समेत कई मंत्रियों का इस्तीफा

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, नई मंत्रिपरिषद में चार पूर्व मुख्यमंत्री, राज्य सरकारों के 18 पूर्व मंत्री, 39 पूर्व विधायक शामिल होंगे. पेशे के आधार पर मंत्रिपरिषद में 13 वकील, 6 डॉक्टर, 5 इंजीनियर, 7 नौकरशाह होंगे. शिक्षा की बात करें तो सात मंत्री पीएचडी धारक, 3 एमबीए डिग्री धारक और 68 मंत्री गेजुएट हैं. 

वीडियो: मोदी कैबिनेट विस्तार के मायने, क्यों हो रही इस विस्तार की चर्चा


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com