Coronavirus: स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुजुर्गों के लिए जारी की एडवाइजरी, इन Dos और Don'Ts का भी रखें ध्यान

Coronavirus (Covid-19): स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए भारत में रह रहे बुजुर्गों के लिए एडवाइजरी जारी की है. स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार बुजुर्ग लोगों को COVID-19 संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है. क्योंकि बढ़ते हुए उम्र के साथ उनकी इम्यूनिटी कमजोर (Weak Immunity) हो जाती है.

Coronavirus: स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुजुर्गों के लिए जारी की एडवाइजरी, इन Dos और Don'Ts का भी रखें ध्यान

Coronavirus: दुनियाभर में कोरोनावायरस के अब तक 6 लाख 97 हाजार मामले सामने आ चुके हैं

खास बातें

  • स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कोरोना वायरस का बुजुर्गों को ज्यादा खतरा.
  • कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाव के लिए बरतें ये सावधानियां.
  • कोरोना वायरस से बचने के लिए क्या करें और क्या न करें.

Coronavirus Dos And Don'Ts: दुनियाभर में COVID-19 का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है. भारत में भी 1,000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. वहीं कोरोना वायरस (Coronavirus) से चीन, इटली फ्रांस जैसे देश सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं. डब्ल्यूएचओ के अनुसार अब तक दुनियाभर में कोरोना वायरस के 6 लाख 97 हाजार मामले सामने आ चुके हैं वहीं Covid-19 से मौत का आंकड़ा 33 हजार के पार पहुंच गया है. कोरोना वायरस दुनिया भर में करीब 204 देशों में फैल चुका है. अभी भी कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए कई देशों में लॉकडाउन (Lockdown) किया गया है. भारत में भी इसके प्रसार (Spread Of Coronavirus) को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए जा रहे हैं. पूरे देश में 21 दिन के लिए लॉकडाउन (21 Days Lockdown) किया गया है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए भारत में रह रहे बुजुर्गों के लिए एडवाइजरी जारी की है. स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार बुजुर्ग लोगों को COVID-19 संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है. क्योंकि बढ़ते हुए उम्र के साथ उनकी इम्यूनिटी कमजोर (Weak Immunity) हो जाती है. इसके कई उदाहरण भी है. भारत में अब तक जितनी भी मौतें हुई हैं उनमें से ज्यादातर बुजुर्ग शामिल थे.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने एडवाइजरी जारी कर कुछ बिंदुओं के माध्यम से बताया कि बुजुर्गों का ख्याल कैसे रखें

  1. बुजुर्गों को ज्यादा से ज्यादा समय दें, लेकिन उनसे उचुत दूरी बनाए रखना भी जरूरी है, जिससे उन्हें भी और खुद को भी वायरस के संपर्क में आने से बचाया जा सकता है.
  2. बुजुर्गों में इसके लक्षणों (खांसी, बुखार या सांस लेने में परेशानी) जैसे लक्षणों के प्रति हमेशा सचेत रहें.
  3. घर में मेहमान नवाजी बिल्कुल न करें.
  4. हाथ मिलाने से बचें.

कोरोना वायरस से बचाव के लिए क्या करना चाहिए | Coronavirus Dos

  • अपने हाथों और चेहरे को साबुन और पानी से नियमित अंतराल पर धोएं.
  • घर पर रहें. घर में आगंतुकों से मिलने से बचें. अगर उनसे मिलना जरूरी है, तो एक मीटर की दूरी बनाए रखें.
  • छींक और खांसी आए तो अपनी कोहनी में या टिशू पेपर और रूमाल में ही छींकें या खांसें. टिशू पेपर के खांसने या छींकने के बाद बंद टिशू डस्टबिन में फेंक जें या रूमाल को धो लें.
  • घर पर पका हुआ ताजा गर्म भोजन करें, वहीं हाइड्रेट रहें और उचित पोषण सुनिश्चित करें। वहीं इम्यूनिटी को बढ़ावा देने के लिए बार-बार और ताजा जूस पिएं.
  • व्यायाम और ध्यान करें.
  • अपनी दैनिक निर्धारित दवाएं नियमित रूप से लें.
  • कॉल के माध्यम से अपने परिवार के सदस्यों, रिश्तेदारों और दोस्तों से बात करें या वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करें। जरूरत पड़ने पर परिवार के सदस्यों की मदद लें.
  • नियमित रूप से कीटाणुनाशक के साथ अक्सर सतहों को साफ करें.
  • अपने स्वास्थ्य की जांच करें. अगर आपको बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई हो रही है तो तुरंत नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें और चिकित्सा सलाह का पालन करें.

क्या करने से बचना चाहिए | Coronavirus Don'Ts

  1. अपनी आंखों, चेहरे, नाक और जीभ को न छुएं.
  2. प्रभावित या किसी भी तरह के बीमार लोगों के पास जाने से बचें.
  3. अपने नंगे हाथों में या अपना चेहरा ढके बिना खांसी या छींक न करें.
  4. अगर आप बुखार और खांसी से पीड़ित हैं एक कमरे में रहें.
  5. अपने दोस्तों और आस-पास के लोगों से हाथ न मिलाएं और गले न लगाएं.
  6. रूटीन चेकअप या फॉलोअप के लिए अस्पताल न जाएं. जहां तक हो सके अपने डॉक्टर के साथ टेली-परामर्श ले लें.
  7. पार्क, बाजार और धार्मिक स्थानों जैसे भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर न जाएं.
  8. जब तक बहुत ज्यादा जरूरी न हो, बाहर न जाएं.

आम सर्दी-जुकाम, फ्लू और कोरोनावायरस के लक्षणों में कैसे करें फर्क

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

       

अस्वीकरण : यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है. यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता. ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें. एनडीटीवी इस जानकारी की प्रमाणिकता की जिम्मेदारी नहीं लेता.