'दही हांडी' के बहाने शिवसेना के शिंदे और ठाकरे गुट एक बार फिर आमने-सामने

भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव को सेलिब्रेट करने के लिए हर साल आयोजित किया जाना वाला दही हांडी का कार्यक्रम इस बार महाराष्ट्र में चर्चा का विषय बना हुआ है.

'दही हांडी' के बहाने शिवसेना के शिंदे और ठाकरे गुट एक बार फिर आमने-सामने

दही हांडी का कार्यक्रम इस बार महाराष्ट्र में चर्चा का विषय बना हुआ है.

मुंबई: भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव को सेलिब्रेट करने के लिए हर साल आयोजित किया जाना वाला दही हांडी का कार्यक्रम इस बार महाराष्ट्र में चर्चा का विषय बना हुआ है. ऐसा इसलिए क्योंकि हाल ही दो टुकड़ों में बटी शिवसेना के दोनों गुटों ने अपने-अपने अंदाज में कार्यक्रम आयोजित करने की तैयारी की है. दही-हांडी के जरिए दोनों गुट फिर एक बार आमने-सामने हैं. 

मामले से जुड़ी अहम जानकारियां :

  1. शिवसेना के दोनों गुटों, एक मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में और दूसरा उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में ने मुंबई, ठाणे और महाराष्ट्र के अन्य शहरों में शिवसेना के संस्थापक बालासाहेब ठाकरे और पार्टी नेता आनंद दिघे की तस्वीरों के साथ होर्डिंग और बैनर लगाए हैं.

  2. दोनों गुटों ने मुंबई और ठाणे में अपने 'दही हांडी' कार्यक्रमों में विजेता टीमों के लिए 2.51 लाख रुपये के प्राइज की घोषणा की है.

  3. कल्याण सांसद और मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के बेटे श्रीकांत शिंदे ने कहा कि उनका कार्यक्रम बालासाहेब ठाकरे और आनंद दिघे के प्रति सम्मान को दर्शाता है. दूसरी ओर, ठाकरे खेमे के सांसद राजन विचारे ने कहा कि उनका आयोजन वफादारी, एकता, संस्कृति और हिंदुत्व की आवाज को दर्शाता है. 

  4. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के समर्थक ठाणे के तेम्बी नाका में दही हांडी का कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं, जबकि उद्धव ठाकरे गुट ने लगभग 200 मीटर दूर जंबली नाका में इसी तरह का कार्यक्रम आयोजित किया है.

  5. बता दें कि करीब दो सालों बाद पूरे महाराष्ट्र में बड़े पैमाने पर जन्माष्टमी के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है, चूंकि, सरकार ने कोरोना को लेकर लगाए गए सारे प्रतिबंधों को हटा लिया है. 

  6. मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने घोषणा की है कि 'दही हांडी' उत्सव को अब राज्य में एक खेल के रूप में मान्यता दी जाएगी.

  7. उन्होंने कहा, " महोत्सव में भाग लेने वाले युवा, जिन्हें 'गोविंदा' भी कहा जाता है, खेल कोटे के तहत सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन कर सकते हैं."

  8. इस खेल के दौरान किसी प्रतिभागी की मृत्यु होने पर, उसके परिवार को राज्य सरकार की ओर से मुआवजे के रूप में 10 लाख रुपये मिलेंगे. गंभीर रूप से घायल प्रतिभागियों को 7 लाख रुपये दिए जाएंगे. जबकि फ्रैक्चर वाले को पांच लाख रुपये का भुगतान किया जाएगा. 

  9. इधर, राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने भी अपने द्वारा आयोजित दही हांडी कार्यक्रम के लिए 55 लाख रुपये के पुरस्कार की घोषणा की है. पार्टी के एक प्रवक्ता ने घोषणा की, "विजेता टीम को स्पेन जाने का भी मौका मिल सकता है."

  10. दही हांडी कार्यक्रम के दौरान, 'गोविंदा' एक मानव पिरामिड बनाते हैं और छाछ से भरे मिट्टी के बर्तन तक पहुंचते हैं, जो हवा में लटका रहता है, और उसे तोड़ते हैं. जिस टीम का सदस्य मटके को पहले तोड़ देता है, वो विजेता होता है.