Pitru Paksha 2021: श्राद्ध कर्म के लिए इन 12 स्थानों का है विशेष महत्व

Shradha 2021: पितृ पक्ष में श्राद्ध कर्म और पिंडदान का विशेष महत्व है. भारत में पितृ दोष शांति के लिए 12 तीर्थों को मुख्य माना गया है. शास्त्रों के अनुसार किया गया पिंडदान और श्राद्ध कर्म सबसे ज्यादा मान्य है.

Pitru Paksha 2021: श्राद्ध कर्म के लिए इन 12 स्थानों का है विशेष महत्व

Pitru Paksha 2021: पितरों के श्राद्ध के लिए ये 12 स्थान हैं प्रमुख

नई दिल्ली:

Sharadh Karma Important Things: पितृ पक्ष पूर्णिमा (Pitru Paksha Purnima) से ही श्राद्ध आरंभ हो चुके हैं. आज से (21 सितबंर, मंगलवार) शुद्ध पितृपक्ष की शुरूआत हो रही है. हिंदू धर्म में पितृ पक्ष का विशेष महत्व है. शास्त्रों के अनुसार किया गया पिंडदान और श्राद्ध कर्म सबसे ज्यादा मान्य है. पितरों की मुक्ति हेतु किए जाने वाले कर्म तर्पण, भोज व पिंडदान को पूरे रीति रिवाजों से नदी के किनारे किया जाता है. हमारे देश में पितृ दोष शांति के लिए 12 तीर्थों को मुख्य माना गया है. माना जाता है कि इन प्रमुख स्थानों पर श्राद्ध करने से पितरों की आत्मा को शांति मिलती है. आइये आपको बताते हैं वो कौन से प्रमुख स्थान हैं, जहां पितृ दोष शांति के लिए श्राद्ध कर्म (Sharadh Karma) करवाना शुभ माना गया है.

श्राद्ध पक्ष के लिए इन स्थानों को माना गया है सबसे खास

उज्जैन (मध्यप्रदेश)

मध्य प्रदेश के उज्जैन में बहती क्षिप्रा नदी को भगवान श्री हरि विष्णु के शरीर से उत्पन्न माना गया है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि क्षिप्रा नदी पर कई घाट व मंदिर बनें है. क्षिप्रा नदी के तट पर स्थित सिद्धवट पर श्राद्ध कर्म किया जाता है. माना जाता है कि महाकाल के इस स्थान पर श्राद्ध करने से पितृ पूर्ण तृप्त हो जाते हैं.

लोहार्गल (राजस्थान)

राजस्थान का लोहार्गल सीकर के पास स्थित है. देश भर से लोग यहां अस्थि विसर्जन व श्राद्ध कर्म के लिए आते हैं. बताया जाता है कि यहां के सुरजकुंड में पांडवों ने अपने पितरों के लिए मुक्ति कार्य करवाया था. यहां तीन पर्वत से निकलने वाली सात धाराएं हैं.

प्रयागराज (उत्तर प्रदेश)

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में त्रिवेणी संगम पर गंगा नदी के तट पर श्राद्ध कर्म किया जाता है. बता दें कि श्राद्ध व पितृ तर्पण करने से बहुत अधिक पुण्य की प्राप्ति होती है.

हरिद्वार (उत्तराखंड)

उत्तराखंड के हरिद्वार में भी श्राद्ध कर्म होता है. माना जाता है कि हर की पौड़ी पर सप्त गंगा, त्रि-गंगा और शकावर्त में विधिपूर्वक देव ऋषि व पितृ तर्पण करने वाला पुण्यलोक में प्रतिष्ठित होता है. इसके साथ ही यहां तदन्तर कनखल में पवित्र स्नान किया जाता है.

mni8aa7

Pitru Paksha 2021:  जानिये श्राद्ध कर्म के इन 12 स्थानों का महत्व

पिंडारक (गुजरात)

गुजरात के पिंडारक प्राभाष क्षेत्र में द्वारिका के पास एक तीर्थ स्थान है, जहां पितृ पिंड सरोवर है.

नासिक (महाराष्ट्र)

महाराष्ट्र के नासिक में गोदावरी नदी के तट पर मुक्ति कर्म होता है. यहां बहने वाली गोदावरी नदी भारत की प्रसिद्ध सात नदियों में से एक है. यहां पितृों की संतुष्टि हेतु स्नान तर्पण कर्म होते हैं.

गया (बिहार)

बिहार के गया में फल्गु नदी के तट पर मुक्ति कर्म होता है. बता दें कि यहीं भगवान बुद्ध का विशाल मंदिर भी है. यहां पितृ तर्पण और श्राद्धकर्म का विशेष महत्व माना गया है.

ब्रह्म कपाल (उत्तराखंड)

उत्तराखंड में बहती अलकनंदा नदी के किनारे ब्रह्म कपाल (कपाल मोचन) तीर्थ है, जहां पिण्ड दान किया जाता है. कहते हैं जिन पितरों को कहीं मुक्ती नहीं मिलती, उनका यहां श्राद्ध करने से मुक्ति मिल जाती है.

मेघंकर (महाराष्ट्र)

महाराष्ट्र के मेघंकर में बहने वाली पैनगंगा नदी के तट पर मुक्ति कर्म किया जाता है.

लक्ष्मण बाण (कर्नाटक)

कर्नाटक के लक्ष्मण बाण का नाता रामायण काल से जुड़ा हुआ है. बता दें कि लक्ष्मण मंदिर के पीछे लक्ष्मण कुंड है, जहां मुक्ति कर्म होता है. कहते हैं यहीं श्री राम ने अपने पिता का श्राद्ध किया था.

पुष्कर (राजस्थान)


राजस्थान के पुष्कर में भी पिण्ड दान होता है. बता दें कि यहां एक प्राचीन झील है, जिसके किनारे मुक्ति कर्म होता है.

काशी (उत्तर प्रदेश)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उत्तर प्रदेश के काशी को मोक्ष नगरी नाम से भी जाना जाता है. यहां एक पिशाच मोचन कुंड है, जहां पर त्रिपिंडी श्राद्ध करने से पितरों को प्रेत बाधा और अकाल मृत्यु से मरने के बाद अन्य तरह की व्याधियों से भी मुक्ति मिल जाती है.